जयपुर के समाजसेवी और युवा टेकनोलोजी एक्सपर्ट विमल डागा ने शुरू किया नि:शुल्क "ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर फैसिलिटी" और कोविड केयर सेंटर - Pinkcity News

Breaking News

Monday, 17 May 2021

जयपुर के समाजसेवी और युवा टेकनोलोजी एक्सपर्ट विमल डागा ने शुरू किया नि:शुल्क "ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर फैसिलिटी" और कोविड केयर सेंटर



जयपुर
। एडुकेशनिस्ट, समाजसेवी और युवा टेकनोलोजी एक्सपर्ट विमल डागा ने जयपुर में निशुल्क "ओक्सीजन कंसेंट्रेटर फैसिलिटी" और कोविड केयर सेंटर  लांच किया हैं। उनकी इस मुहिम में आईआईईसी (IIEC) भारतीय इनोवेशन और उद्यमिता समुदाय, द्वारा ( SERVE HUMANITY ), " सर्व ह्यूमैनिटी " मिशन भी जुटे हुए हैं।

 कोरोना संक्रमितों के लिए मुफ्त आईसोलेशन,ऑक्सीजन और कोविड केयर केंद्र शुरू करने के पीछे विमल डागा का लक्ष्य है   जयपुर में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे पर बोझ कम करना और चिकित्सा टीम की देखरेख में मरीज़ को ऑक्सीजन की सुविधा, प्लाज्मा की सुविधा और स्वच्छ भोजन की पर्याप्त सप्लाई देना । यह केंद्र चौबीसों घंटे खुलेगा और जयपुर के लोगो को मुफ्त सेवा प्रदान करवाएगा।

 विमल डागा ने आगे बताया , "यह पहल ऐसे समय में की गयी है जब कोविड 19 की इस घातक लहर के अचानक बढ़ने के कारण स्वास्थ्य ढांचा भारी दबाव में है और कोविड 19 की इस दूसरी लहर में, ऑक्सीजन ही सबके लिए सबसे महत्वपूर्ण हथियार बनी हुई है। हमारा प्रयास है की हम कोविड से लड़ें और जहां तक संभव हो मृत्यु दर को रोकें। IIEC द्वारा स्थापित ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर सुविधा केंद्र ( Vichakshan Yatri Niwas, Trimurti Circle, J.L. N Marg, Jaipur – 302004) विचक्षण यति निवास, त्रिमूर्ति सर्कल, जेएल एन मार्ग पर शुरू किया गया है। कोविड रोगी परिवार www.servehumanity.org.in पर लॉग इन कर सकते हैं या हमारे द्वारा जारी किये गए टोल-फ्री नंबरों पर कॉल कर मरीज़ के लिए बेड बुक कर सकते हैं। वे यहाँ तब तक रह कर सुविधाए प्राप्त कर सकते हैं जब तक उन्हे हॉस्पिटल बेड नहीं मिल जाता। कोई भी कोविड रोगी जिसका ऑक्सीजन स्तर 87 के आसपास चल रहा है और जो गंभीर नहीं है, उसे यहाँ बेड दिया जाएगा । इस केंद्र में बिना रुकावट ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर सुविधा यहाँ भर्ती होने वाले रोगियों के लिए उपलब्ध है. इसके अतिरिक्त मेडिकल स्टाफ की निगरानी में देखभाल, पौष्टिक भोजन, प्लाज्मा सुविधा आदि भी उपलब्ध है, मरीज़ अस्पताल मे बेड मिलने तक यहां रह सकता है।   

प्रीती डागा , Co-founder IIEC aur Samaajsewika ( phillanthrophist ) जो देश भर के वालंटियर्स से भी लगातार संपर्क में हैं ने कहा, कि मेडिकल प्रोफेशनलस ना होने के बावजूद भी हमने यह शुरुआत की, हम चाहते हैं की ज़्यादा से ज़्यादा लोग हमारे इस मिशन से जुड़े और मानव कल्याण के लिए आगे आये चाहे वे मेडिकल प्रोफेशन से जुड़े हों या नहीं . हम जयपुर में यह नहीं देखना चाहते हैं की मरीज अपनी जान बचाने के लिए अस्पतालों के धक्के खा रहे हैं और प्राइमरी उपचार और ऑक्सीजन ना मिलने की वजह से जान गवा रहे हैं. ऑक्सीजन की जरूरत वाले हर जीवन को बचाने के लिए यह हमारे लिए एक मिशन है। पहली लहर के दौरान, उपचार, प्रतिरोधक क्षमता , मुफ्त चिकित्सा सहायता, पौष्टिक भोजन बहुत महत्वपूर्ण थे, लेकिन अब दूसरी लहर में ऑक्सीजन की आपूर्ति सबसे महत्वपूर्ण है। हम इस समय युद्ध से जूझ रहे हैं और ऐसे समय में हम सभी के लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम सरकार, स्वयंसेवक और स्वास्थ्य सेवा संस्थानों के साथ मिलकर लोगों की मदद करें। 


SHRI JAIN SWETAMBER KHARTARGACH SANGH, JAIPUR, के सहयोग और आई आई सी और " सर्व ह्यूमैनिटी ", के मेंबर्स Dr Vikram Yadav , Mr Umesh Moolrajani और Mr Varun Maloo, और नर्सों सहित अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता इस वायरस के खिलाफ एक सुरक्षात्मक ढाल बनाने की कोशिश कर रहे हैं और जयपुर के लोगों को हील करने के अपने मिशन में सफल होने के लिए ये सब चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं, समर्पित टीम द्वारा कोविड के व्यवहार को बनाए रखा जा रहा है और वे डबल लेयर मास्क, पीपीई किट पहने हुए हैं और सैनिटाइज़र का उपयोग कर रहे हैं, वे पीपीई किट को हटाने और डंप करने के लिए कड़े प्रोटोकॉल का पालन करना भी सुनिश्चित कर रहे हैं। आई आई इ सी ( IIEC )) यह राहत की पहल भारत के अलग अलग राज्यों Delhi, Bangalore , Hyderabd, Mumbai में भी शुरू की जा रही है और वालंटियर्स इन राज्यों में जाकर अस्पतालों और समाजसेवी संगठनों की मदद कर रहे हैं।

No comments:

Post a Comment

Pages