टीम एयू बैंक जयपुर मैराथन की पहल : "बेनिफिट्स ऑफ रनिंग" पर रीसर्च - Pinkcity News

Breaking News

Wednesday, 3 February 2021

टीम एयू बैंक जयपुर मैराथन की पहल : "बेनिफिट्स ऑफ रनिंग" पर रीसर्च

  • रनिंग से बॉडी और माइंड पर होने वाले प्रभावों पर होगी रीसर्च
  • इंडिया में पहली बार होगी इस तरीके की रीसर्च का प्रयोग


जयपुर, 03 फरवरी। यह नया साल नई शुरुआत के बारे में है, हम चुनौतियों से सीखते है और बेहतर कल बनाने की कोशिश करते है। बेहतर होना ही हमें मानवता की पहैचान देता है। हमने पिछले एक साल में अपने और अपने प्रियजनों के बारे में बहुत कुछ जाना है जो पहले हम नहीं जनते थे। हमने सीखा है कि क्या हमें बेहतर बनाता है, लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि जब हम साथ होते हैं तो दुनिया बेहतर होती है। इस साल, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं या आप कहां हैं। क्या मायने हैं एयू बैंक जयपुर मैराथन 2021 में आप का एक साथ होना और आप एक साथ बेहतरीन हैं।


दौड़ना चार वर्ष के बच्चे से लेकर 80 वर्ष के बुजुर्ग तक के दिमाग के कामकाज और याददाश्त को सुधारता है। कार्डियो वर्कआउट जैसे दौड़ना, साइकिलिंग, ट्रेडमिल एक्सरसाइज आदि दिल की धड़कन तेज करने और साथ ही हमारी मांसपेशियों (मसल्स) को मजबूत बनाने वाली कसरत हैं। दौड़ना हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए तो फायदेमंद है ही लेकिन इसके कुछ ऐसे फ़ायदे भी हैं जो हमारी मानसिक - सामाजिक ज़िन्दगी को प्रभावित करते हैं। आधुनिक समय में कोरोना ने जिस तरह से मनुष्य की जीवन शैली को प्रभावित किया है इससे यह ज़रूरी हो गया है कि, हमारा इम्युनिटी सिसटम मज़बूत हो ताकि आगे आने वाले किसी भी संक्रमण से हम लड़ पाएं।


सवाल यह है कि रनिंग से सेहत सुधारने में कैसे मदद मिलती है? इसी के तहत एक रिसर्च ’स्टडी ऑन बेनिफिट्स ऑफ रनिंग’ उदय सिंह (मनोविज्ञान और लीडरशिप कोच) और शिवा गौर (अटॉर्नी एंड मोटिवेशनल स्पीकर) के नेतृत्व में यह स्टडी चल रही है, जो मानव के शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक रूप से व्यावहारिक परिणामों को समझने के लिए है। यह रिसर्च तीन स्तर पर होगी व इसके लिए एक टीम इंडिया व अन्य देशों के रनर्स से डेटा जुटाने में लगी है। उदय सिंह ने बताया कि काफ़ी समय से वो दौड़ने के प्रभाव पर एक स्टडी कर रहे थे और उन्होंने पाया कि इससे हमारी मानसिक स्थिति - शारीरिक स्वास्थ्य में बहुत सकारत्मक अंतर आते हैं। एयू बैंक जयपुर मैराथन के संस्थापक, मुकेश मिश्रा इस रीसर्च में पूर्ण सहयोग कर रहे हैं और उन्होंने बताया कि इस तरह का यह ख़ास रीसर्च इंडिया में पहली बार की जा रही है व इसके अध्ययन रिपोर्ट को रनिंग कम्युनिटी व आम लोगों के साथ भी शेयर किया जायेगा।

No comments:

Post a comment

Pages