हाईवे पर ट्रक ड्राइवरों की मदद करने वाली टेक्नोलॉजी फ़्लीका सेंटर्स ने केवल एक सप्ताह में हाइवे पर 3000 से अधिक ट्रक चालकों को ब्रेकडाउन समय कम करने में मदद की - Pinkcity News

Breaking News

Tuesday, 28 April 2020

हाईवे पर ट्रक ड्राइवरों की मदद करने वाली टेक्नोलॉजी फ़्लीका सेंटर्स ने केवल एक सप्ताह में हाइवे पर 3000 से अधिक ट्रक चालकों को ब्रेकडाउन समय कम करने में मदद की


13 राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर फैले 250 से अधिक फ़्लीका सेंटर्स लॉकडाउन के दौरान टायर से संबंधित मुद्दों के लिए 24x7 सेवाएं प्रदान कर रहे हैं ।
 13 राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर आवश्यक वस्तुओं की समय पर आपूर्ति के लिए दौड़ने वाले ट्रक ड्राइवरों का समर्थन करते हुए 9 प्रमुख राज्यों को कवर किया
जयपुर 28 अप्रैल 2020 .  ब्रेकथ्रू तकनीक आधारित ऐप फ़्लीका ने लॉकडाउन 2.0 के दौरान ब्रेकडाउन के महत्वपूर्ण समय में लगभग 3000 ट्रक ड्राइवरों को त्वरित सहायता प्रदान की है। टायर प्रबंधन स्टार्टअप फ़्लीका इंडिया ने अपने टायर हेल्थ और टायर केयर सेवाओं को मोडिफाइड लॉकडाउन में राजमार्गों पर स्थित 250़ फ़्लीका सेंटर्स के साथ फिर से शुरू किया। पहले लॉकडाउन अवधि के बाद केवल एक सप्ताह के भीतर फ़्लीका सेंटर्स ने संचालन शुरू किया और राजमार्गों पर ट्रकों की निर्बाध आवाजाही के लिए समर्थन किया ताकि फार्मा एफएमसीजी और अन्य आवश्यक सामानों की समय पर अंतर राज्य आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके।

लॉकडाउन की इस मुश्किल घडी में फ़्लीका इंडिया की कर्मनिष्ठा को बताते हुए टीकमचंद जैन संस्थापक और सीईओ ने कहा 22 अप्रैल से हमने राजमार्गों पर अपने फ़्लीका सेंटर्स का संचालन शुरू किया। गृह मंत्रालय ने परिवहन क्षेत्र और अन्य समान क्षेत्रों पर दिशा.निर्देश तैयार करने के बाद यह निर्णय लिया। सरकार के निर्देशानुसार विशेष रूप से राजमार्गों पर ट्रक और अन्य हैवी व्हीकल्स की मरम्मत के लिए अनुमति मिलने के पश्चात लॉकडाउन के इस मुश्किल समय में फ़्लीका ने 13 हाइवे पर अपने सेंटर्स खोल दिए। टायर रखरखाव सड़क पर सबसे आम मुद्दों में से एक है जो ट्रक मालिकों व् ड्राइवरों को समय पर डिलीवरी नहीं पहुँचाने का सबसे बड़ा कारण बनता है। देश की सेवा में हमारे द्वारा विकसित तकनीक और नेटवर्क का उपयोग करने का यह सबसे अच्छा अवसर है।

इस लॉकडाउन अवधि में कई ट्रक चालक ट्रक के रखरखाव से संबंधित मुद्दों के कारण राजमार्गों पर फंस गए हैं। अधिकांश राजमार्ग मरम्मत की दुकानें अभी भी नहीं खोली गई थीं और इस आपातकाल के समय में अभी भी रिपेयरिंग के काम की कीमतें इन सेवा प्रदाताओं द्वारा बहुत ऊँची वसूली जा रही है। फ़्लीका एप इन मुश्किल घडी में भी निश्चित और पारदर्शी मूल्य के साथ गुणवत्ता सेवा प्रदान करता है और ट्रक चालकों व ऑपरेटरों की लगभग सभी परेशानियों का कुछ ही समय में हाइवे पर समाधान करता है।

राजमार्गों पर ट्रक चालकों के लिए त्वरित सहायता प्राप्त करना बहुत मुश्किल होता है। फ़्लीका एप द्वारा इस मुश्किल घडी में ट्रक संचालक व ड्राइवर तक त्वरित सेवा पहुंचायी जाती है। इस एप के जरिये निकटतम फ़्लीका सेंटर्स का पता लगा सकते हैं या आईवीआर नंबर 91 7733999944 पर कॉल कर सकते हैं और उन्हें केवल एक घंटे के अंदर फ़्लीका सेंटर द्वारा मदद पहुंचाई जाती है। ट्रक व टायर रिपेयरिंग में प्रशिक्षित यह सहायता टीम द्वारा दी जाने वाली विभिन्न सेवाओं में टायर फिटमेंट टायर निकालना पंचर रिपेयर रोटेशन व्हील एलाइनमेंट फ्रेश और रिट्रेड टायर बिक्री आदि शामिल हैं। यहां तक कि ट्रक मालिक संचालक ट्रक के लोकेशन का पता लगा सकते हैं और वास्तविक समय में सर्विस डिलीवरी को ट्रैक कर सकते हैं। फ़्लीका इंडिया द्वारा विकसित इस सफलतम तकनीक का उपयोग करना बहुत ही आसान है।

एआई और आईओटी के अपने अनूठे एप के साथ फ्लीका ने ट्रक संचालकों को होने वाली परेशानी को कम करने के लिए निश्चित पारदर्शी मूल्य निर्धारण और गुणवत्ता सेवा प्रदान करते हुए ब्रेकडाउन के समय को कम किया है। इसके अलावा राजमार्गों पर ट्रक चालकों द्वारा सामना किए जाने वाले टायर से संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए कंपनी के पास 24x7 टायर रखरखाव सहायता टीम भी तैनात है।

जैन आगे कहते हैं हमारे सभी फ़्लीका सेंटर्स आवश्यक सावधानी और स्वास्थ्य देखभाल प्रोटोकॉल का पालन करते हैं जैसे कि सोशल डिस्टन्सिंग मास्क का उपयोग और सर्वोत्तम स्वच्छता। हम हाइवे पर स्थित अपने सेंटर्स की कड़ी निगरानी करते हैं और उन्हें कोरोनोवायरस के खतरे के बारे में बताते हैं समय-समय पर जारी होने वाले विभिन्न सरकारी नियमों और विनियमों से बचाने के लिए आवश्यक विभिन्न सावधानियां बरतने के निर्देश भी दिये जाते है।

फ़्लीका सेंटर्स की टीम वर्तमान में  9 राज्यों में 13 राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर सक्रिय रूप परिचालन कर रही हैं। कवर किए गए कुछ प्रमुख राजमार्ग दिल्ली.अहमदाबाद.मुंबई दिल्ली.नासिक.मुंबई मुंबई.बैंगलोर.चेन्नई दिल्ली.कोलकाता जयपुर.गांधीधाम चित्तौड़. नीमच.दाहोद पुणे.सोलापुर.हैदराबाद हैं। पिछले साल लॉन्च कि गई फ़्लीका एप 9 राज्यों में औसतन 50,000 टायरों पर निरीक्षण और सेवा प्रदान कर चुकी है। यह स्टार्टअप कंपनी ने साल के अंत तक 1000़ फ़्लीका सेंटर्स खोलने की योजना बनाई है।

No comments:

Post a comment

Pages