कंपनी सेक्रेटरी में आए नए बदलावों और आकर्षक अवसरों पर आयोजित चर्चा - Pinkcity News

Breaking News

Saturday, 22 February 2020

कंपनी सेक्रेटरी में आए नए बदलावों और आकर्षक अवसरों पर आयोजित चर्चा

  • - भारतीय कंपनी सचिव संस्था के जयपुर चैप्टर की ओर से दो दिवसीय सेमिनार का आयोजन
  • - देशभर से आए 250 मेंबर्स और बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स एवं अन्य प्रोफेशनल्स ने लिया हिस्सा


जयपुर, 22 फरवरी। कंपनी सेक्रेटरी का वर्तमान परिप्रेक्ष्य में इसकी महत्ता पर विशेष बल दिया जा रहा है, साथ ही सीएस के स्टूडेंट्स के लिए कई बड़ी उपलब्धियों और अवसरों पर भी काम किया जा रहा है। ये कहना था भारतीय कंपनी सचिव संसथान की जयपुर शाखा के अध्यक्ष सीएस नितिन होतचंदानी का। भारतीय कंपनी सचिव संस्था के जयपुर चैप्टर की ओर से भट्टारकजी की नसिया स्थित इंद्रलोक सभागार में शनिवार, 22 फरवरी से दो दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर ईएसआई व कौशल उद्यमिता श्रम रोजगार सचिव नीरज के. पवन एवं कार्यक्रम के विशिष्ट आईसीएसआई भारतीय कंपनी सचिव संस्थान के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सीएस डॉ. श्याम अग्रवाल उपस्थित रहे।
कार्यक्रम में दिल्ली से भारतीय कंपनी सचिव संस्थान के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सीएस रणजीत पांडे एवं भारतीय कंपनी सचिव संस्थान के केंद्रीय परिषद के सदस्य सीएस मनीष गुप्ता, भारतीय कंपनी सचिव संस्थान के उत्तर भारतीय क्षेत्रीय परिषद के सदस्य वाइस चेयरमैन सीएस विमल गुप्ता एवं कार्यक्रम की शुरुआत भारतीय कंपनी सचिव संस्थान की जयपुर शाखा के अध्यक्ष सीएस नितिन होतचंदानी के उदबोधन भाषण से हुई। सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए कहा कि सीएस की स्थिति हर वर्ष के साथ काफी बदलती जा रही है, जहां आज युवाओं को कई बेहतर अवसरों के साथ डिग्री प्रदान की जा रही है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नीरज के पवन ने सीएस के अपरंपरागत रोल को अत्यंत महत्वपूर्ण बताया एवं वर्तमान में सरकार द्वारा लिए जाने वाले क़दमों को उठाने का आस्वाशन दिया। जिसके साथ ही लेबर कोड को पास करने के लिए भारतीय कंपनी सचिव संस्थान के जयपुर चैप्टर मेंबर्स के साथ सरकार की भी मीटिंग रखी जाएगी। कार्यक्रम की 'थीम : अनकन्वेंशनल रोल ऑफ़ सीएस - एक्सपैंडिंग न्यू होराइज़ंस' पर होने वाले इस कार्यक्रम में देशभर से आए 250 मेंबर्स और बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स एवं अन्य प्रोफेशनल्स ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में भारतीय कंपनी सचिव संस्थान जयपुर चैप्टर के मैनेजिंग कमिटी के वाईस चेयरमैन सीएस नवनीत अगीवाल, कोषाध्यक्ष सीएस रिया शर्मा एवं पूर्व चेयरमैन सीएस राहुल शर्मा ने शिरकत की।

- कंपनी डिस्ट्रेस और नए इन्वेस्टमेंट में सीएस की आवश्यकता -
सीएस मनीष गुप्ता ने बताया की नोटबंदी और जीएसटी के बाद इकॉनमी में आई गिरावट जरुरी थी। ये समय सेटलमेंट का है जहां नए प्रावधान और नियम बनने में तेजी आती है। सीएस ही ऐसा प्रोफेशन है जो कंपनी के लिए डिस्ट्रेस से लेकर नए इन्वेस्टमेंट होने तक जरुरी होते है। वहीं सीएस रणजीत पण्डे बताते हैं कि आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस, आईटी और सोशल मीडिया में आए आकर्षक कैरियर ऑप्शंस के चलते सीएस के रुझान में थोड़ी कमी आई थी मगर जो स्टूडेंट्स कॉमर्स करते है वे सीएस को कैरियर के तौर पर जरूर चयन करते हैं। ये दो दिवसीय कांफ्रेंस का मुख्य उद्देश्य कंपनी सेक्रेटरी में आए नए बदलावों और आकर्षक अवसरों पर रौशनी डालना ही था। जिसके अंतर्गत रेरा, कंपनी अमेंडमेंट एक्ट, इन्सॉल्वेंसी और बैंक्रप्सी कोड, आईबीसी, एनसीएलटी, सर्विसेज ऑफ़ एनसीडीएल आदि पर गहन चर्चा की गई।

इन्सॉल्वेंसी और बैंक्रप्सी कोड के विभिन्न प्रावधानों पर चर्चा -
कार्यक्रम के प्रथम सेशन के वक्त सीएस मनीष गुप्ता ने 'अपॉर्च्युनिटी इन एनसीएलटी' के विभिन्न प्रावधानों के बारे में बताया एवं इन्सॉल्वेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड के विभिन्न प्रावधानों पर विस्तार से चर्चा की। वहीं दूसरे सेशन में वक्त अभिषेक मिश्रा ने 'डिमटेरिइलाइज़ेशन   ऑफ़ शेयर्स एंड अदर इशूअर ऑफ़ एनएसडीएल' के विभिन्न अवसरों के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम के तृतीय सेशन के वक्ता प्रवीण शर्मा ने ऑनलाइन ऑफिस फॉर सीएस एंड अपॉर्च्युनिटी के बारे में बताते हुए सीएस के लिए इस क्षेत्र में विभिन्न अवसरों के बारे में जानकारी दी। वहीं कार्यक्रम के अंतिम सेशन के वक्ता सीएस रणजीत पांडे ने 'इन्सॉल्वेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड' के विभिन्न इन्सॉल्वेंसी लो' एवं इसके अंतर्गत अपनाई जाने वाली कानूनी प्रक्रिया एवं न्यायिक प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान की एवं इन्सॉल्वेंसी के दौरान पालन किए जाने वाले कानून एवं मानकों के बारे में जानकारी देते हुए शंका समाधान किया।

कांफ्रेंस के दूसरे दिन रविवार को आयोजित होने वाले सेशन -
कार्यक्रम के दूसरे दिन 23 फरवरी, रविवार को प्रथम सेशन के वक्ता सीएस अंशुल जैन 'रोल ऑफ़ सीएस एज़ एंटरप्रिन्योर' के बारे में जानकारी देंगे। दूसरे सेशन में वक्त हिमांशु गोयल अपॉर्च्युनिटी फॉर सीएस इन रेरा के बारे में बताएंगे। कार्यक्रम में तृतीय सेशन में सीएस प्रवीण तिवारी 'रिसेंट अमेंडमेंट इन कम्पनीज एक्ट' के बारे में चर्चा करेंगे।

No comments:

Post a Comment

Pages