-गलताजी के सूर्य मंदिर से निकली शोभायात्रा का छोटी चौपड़ पर स्वागत - Pinkcity News

Breaking News

Saturday, 1 February 2020

-गलताजी के सूर्य मंदिर से निकली शोभायात्रा का छोटी चौपड़ पर स्वागत

जयपुर। सूर्य सप्तमी पर शनिवार को भगवान सूर्य का पूजन किया गया। लोगों ने उगते हुए सूर्य को जल अर्पित किया और  आदित्य स्त्रोत्र का पाठ कर आरोग्य का वरदान मांगा। गलता तीर्थ स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर में दुग्धाभिषेक कर भगवान भास्कर को नई पीतांबरी पोशाक धारण कराई गई।
इसके बाद सूर्यदेव के विग्रह को पालकी में विराजमान कर सूरजपोल गेट तक ले जाया गया। यहां से लवाजमे और बैंडबाजे के साथ शोभायात्रा शुरू हुई। स्वर्णजडि़त रथ के साथ शोभायात्रा सूरजपोल बाजार, रामगंज चौपड़, बड़ी चौपड़ होते हुए छोटी चौपड़ पहुंची।
यहां देवालय संरक्षण समिति की ओर से अध्यक्ष गलतापीठाधीश्वर अवधेशाचार्य महाराज, उपाध्यक्ष महामंडलेश्वर पुरुषोत्तम भारती, घाट के बालाजी मंदिर के स्वामी सुदर्शनाचार्य, लाड़लीजी मंदिर के महंत डॉ. संजय गोस्वामी, मोहन लाल पाराशर, समाजसेवी राजू मंगोड़ीवाला सहित अनेक लोगों ने सूर्य भगवान की आरती उतारी। जलेब चौक स्थित सूर्य मंदिर भी सूर्य सप्तमी मनाई गई। ब्रह्मपुरी स्थित गायत्री शक्तिपीठ में सूर्य गायत्री महामंत्र ऊं भास्कराय विद्महे दिवाकराय धीमहि तन्नो सूर्य: प्रचोदयात्.... के साथ आहुतियां अर्पित की गई।
उधर, क्रीड़ा भारती की ओर से सूर्य रथ सप्तमी पर शरीर को स्वस्थ रखने और योग के प्रति जागरूकता के लिए विभिन्न आदर्श विद्या मंदिरों में सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। उल्लेखनीय है कि सूर्य सप्तमी को माघी सप्तमी, रथ सप्तमी या अचला सप्तमी के नाम से जाना जाता है। यह सूर्योपसना का पर्व है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान सूर्यदेव की साधना-आराधना का अक्षय फल मिलता है।

No comments:

Post a Comment

Pages