रियाज हमेशा विलंबित लय में करना चाहिए : उमेश मेंदीरत्ता - Pinkcity News

Breaking News

Friday, 17 January 2020

रियाज हमेशा विलंबित लय में करना चाहिए : उमेश मेंदीरत्ता

  • -दूसरे दिन 200 से अधिक कलाकारों ने सुर साधे
  • -अभा महेंद्र भट्ट स्मृति संगीत एवं नृत्य प्रतियोगिता
  • -प्रखर जोजन, हर्षित महर्षि, चित्रा वशिष्ठ और ऐशानी भट्ट रहीं प्रथम स्थान पर
जयपुर, 17 जनवरी।  मालवीय नगर स्थित दर्शक कॉलेज ऑफ म्यूजिक एण्ड आर्ट्स ऑडिटोरियम में चल रही दर्शक संस्था जयपुर की प्रतिष्ठित 31वीं आठ दिवसीय महेंद्र भट्ट स्मृति अभा संगीत एवं नृत्य प्रतियोगिता के दूसरे दिन शुक्रवार को युवा व किशोर वर्ग की सुगम गायन (रिकॉर्डेड)प्रतियोगिता हुई। प्रतियोगिता में देश के विभिन्न शहरों के  करीब 200 से अधिक प्रतिभागियों ने अपनी सुरीली आवाज में  सुर-लय और ताल के साथ फिल्मी गीतों की दिलकश प्रस्तुतियां दीं।

गायकी के दिए टिप्स
प्रतियोगिता के जूरी पैनल में बीकानेर के उम्दा फनकार उमेश मेंदीरत्ता रहे, जो आला फनकार मरहूम महेन्द्र भट्ट के अजीज शिष्य हैं। खास बात  यह रही कि उन्होंने प्रतिभागियों को गायकी के न सिर्फ टिप्स दिए, बल्कि सुरों के सही बर्ताव का सबक भी दिया। उन्होंने बताया कि रियाज हमेशा विलंबित लय में करना चाहिए। इससे सुरों पर पकड़ और उसका अदब प्रस्तुति को सुरीला बनाता है। उन्होंने बताया कि अच्छी गायकी के लिए श्वास का बैलेंस जरूरी होता है। उमेश मेंदीरत्ता ने राग कलावती में सूरदास की रचना तुम मेरी राखी लाज...को सुरों की सूक्ष्मता से पेशकर लय और ताल का सलोनापन दर्शाया। इससे पहले वरिष्ठ कलाकार डॉ.आभा गुप्ता ने वॉयलिन साज पर राग वृंदावनी सारंग के सुर साधे।

यह प्रतिभागी प्रथम स्थान पर रहे
सुगम गायन अनरिकॉर्डेड प्रतियोगिता के युवा वर्ग में प्रखर जोजन, किशोर वर्ग में हर्षित महर्षि और बाल वर्ग में चित्रा वशिष्ठ प्रथम स्थान पर रहीं। इसी प्रकार सुगम गायन रिकॉर्डेड प्रतियोगिता के बाल वर्ग में ऐशानी भट्ट प्रथम स्थान पर रहीं।

आज होगी लोक और शास्त्रीय गायन की प्रतियोगिता
प्रतियोगिता संयोजक राजीव भट्ट और प्रोमिला राजीव भट्ट ने बताया कि शनिवार को प्रात: 10 बजे मालवीय नगर स्थित दर्शक कॉलेज ऑफ म्यूजिक एण्ड आर्ट्स ऑडिटोरियम में बाल, किशोर और युवा वर्ग की लोक और शास्त्रीय गायन की प्रतियोगिताएं होंगी।

No comments:

Post a comment

Pages