सीएए पर ध्यान है सीएम गहलोत का, लेकिन अस्पतालों में मर रहे बच्चों की तरफ ध्यान नहीं है : निर्मला सीतारमण - Pinkcity News

Breaking News

Sunday, 5 January 2020

सीएए पर ध्यान है सीएम गहलोत का, लेकिन अस्पतालों में मर रहे बच्चों की तरफ ध्यान नहीं है : निर्मला सीतारमण

सीएए के विरोध के नाम पर हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है सोनिया गाँधी,
नागरिकता संशोधन अधिनियम किसी धर्म व  मजहब के खिलाफ नहीं है: निर्मला सीतारमण
जयपुर, 05 जनवरी। केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज भाजपा प्रदेश मुख्यालय पर पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार के मुखिया अशोक गहलोत का सीएए पर तो ध्यान है लेकिन अस्पतालों में मर रहे बच्चों की तरफ ध्यान नहीं है। इससे यह प्रतीत होता है कि उन्हें सिर्फ अपने माइनाॅरिटी वोट बैंक की चिंता है। उन्होंने मीडिया का हवाला देते हुए कहा कि मीडिया अशोक गहलोत को याद दिलाए कि पिछली सरकार के दौरान उन्होंने एक पत्र भेजा था और अब क्यों अपने ही पत्र और वादे को भूल रहे है।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर निर्मला सीतारमण ने कहा कि हम तो नेहरू-लियाकत समझौते के तहत कार्य कर रहे है, जो कानून बनाया है उसे संसद में चर्चा के बाद ही पास किया गया है। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल सिर्फ और सिर्फ भ्रम और हिंसा फैलाने का काम कर रहा है।

उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन के बारे में अध्ययन के माध्यम से जनता को जागरूक किया जा रहा है। यह अधिनियम किसी धर्म या मजहब के खिलाफ नहीं है। पाकिस्तान से आये 2000 मुस्लिमों को, अफगानिस्तान से आये 9000 मुस्लिमों को एवं बांग्लादेश से आये 200 मुस्लिमों को गत 6 वर्षों में भारत की नागरिकता दी है। हमने मेनिफेस्टो में जो वादा किया था उसे पूरा कर रहे है। भाजपा अपना वादा पूर कर रही है यह विपक्षी दल को हजम नहीं हो रहा है और इसी के चलते एक मजहब के लोगों को भड़का कर विपक्ष सियासत कर रहा है।

निर्मला सीतारमण ने व्यंग्य कसते हुए कहा कि जो भारत माता की जय बोलने में शर्म करते थे वो आज 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) को झण्डा फहराने की बात कर रहे है। ऐसी क्या आवश्यकता पड़ी कि उन्हें यह बताने की जरूरत महसूस हुई कि हम 26 जनवरी को झण्डा फहरायेंगे।

सीतारमण ने कहा कि इस देश में अपनी बात रखने का अधिकार, विरोध करने का अधिकार सभी को है पर हिंसा फैलाने का अधिकार किसी को नहीं है। लेकिन सोनिया गाँधी बयान जारी करती है कि सीएए पर हो रहे विरोध को मेरा समर्थन है, जो वो कर सकती है। लेकिन उन्होंने सीएए के नाम पर हो रही हिंसा का विरोध नहीं किया, हिंसा फैलाने वाले का समर्थन किया, जो कि अत्यंत निंदनीय है।

सीतारमण ने कहा कि राहुल गाँधी देश के टुकड़े-टुकड़े करने की बात करने वाली गैंग का समर्थन करते है। मोदी जी गरीबी के विरूद्ध जंग करने की बात करते है। वहीं गहलोत सीएए का विरोध पर देश के टुकड़े-टुकड़े होने की बात करते है, जिससे टुकड़े-टुकड़े गैंग का समर्थन करने वाली कांग्रेस की देशविरोधी मानसिकता का पता लगता है।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि अशोक गहलोत का सीएए पर तो ध्यान है, लेकिन अस्पतालों में मर रहे बच्चों पर नहीं है। उनका इन्ट्रेस्ट कहां है वो सबको पता चल रहा है। अशोक गहलोत को सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि वो अपने डिप्टी सीएम सचिन पायलट की बात को ही सुन लें और अपनी जिम्मेदारी तय करें। आज गहलोत विस्थापितों को नागरिकता देने का विरोध कर रहे है लेकिन वो भूल गये कि कभी उन्होंने ही चिट्ठी लिखकर विस्थापितों को नागरिकता देने की मांग की थी।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि आज के दौर में जो आर्थिक आधार पर चैलेंज फेस कर रहे है उनको भारत सरकार मदद कर रही है। एनबीएफसी और बैंक द्वारा भी नवरात्रि और दिवाली के समय 6 लाख करोड़ का क्रेडिट दिलवाया। साथ ही पिछले 2 महीने से जीएसटी कलेक्शन भी 1 लाख करोड़ प्रतिमाह बढ़ा है। जिसमें राज्यों का हिस्सा बढ़ाकर राज्यों तक पहुँचा रहे है और उन्होंने कांग्रेस और भाजपा शासित राज्यों में डिफरेंस के आरोप को नकारते हुए कहा कि सभी को समान रूप से केन्द्र सरकार द्वारा आर्थिक मुद्दों पर सहायता पहुँचायी जा रही है और किसी भी प्रकार की कटौती नहीं की जा रही है।

इस दौरान उनके साथ भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा भी उपस्थित थे।

केन्द्रीय विŸा मंत्री निर्मला सीतारमण आज अपने एक दिवसीय दौरे पर जयपुर पहुँची। जयपुर पहुँचने पर सांगानेर एयरपोर्ट पर भाजपा कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने निर्मला सीतारमण का भव्य स्वागत किया। इस दौरान जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. अरूण चतुर्वेदी भी उनके साथ मौजूद रहे।

जयपुर एयरपोर्ट से निर्मला सीतारमण सांगानेर के लिए रवाना हुई, जहाँ उन्होंने सांगानेर मण्डल के बूथ संख्या 189-190 पर पहुँच कर जन-जागरण अभियान का शुभारम्भ किया और घर-घर जाकर लोगों से सम्पर्क किया तो वहीं नागरिकता संशोधन कानून के बारे में विस्तार से लोगों को समझाया, लोगों से जनसम्पर्क किया।

No comments:

Post a Comment

Pages