शांति मार्च में सभी धर्मों के 5 लाख से अधिक लोग हुए शामिल, भाईचारे प्रेम और शांति का दिया संदेश : खाचरियावास - Pinkcity News

Breaking News

Sunday, 22 December 2019

शांति मार्च में सभी धर्मों के 5 लाख से अधिक लोग हुए शामिल, भाईचारे प्रेम और शांति का दिया संदेश : खाचरियावास

जयपुर।  परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने जयपुर की जनता को ऐतिहासिक "शांति मार्च" निकालने के लिए बधाई देते हुए कहा कि 5 लाख से ज्यादा नागरिकों ने शांति मार्च में शामिल होकर भारत के संविधान को जो सम्मान दिया है वह ऐतिहासिक और गौरवपूर्ण है।
खाचरियावास ने कहा कि आज तक जयपुर में किसी भी रैली व मार्च में इतनी बड़ी संख्या में लोग नहीं जुटे तथा अनुशासन में रहकर हाथ में देश का तिरंगा झंडा लिए हुए हिंदू-मुस्लिम-सिख-बौद्ध-जैन- इसाईयों ने लोगों में भाईचारे और प्रेम का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत किया है।
खाचरियावास ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार के नेता एक तरफ लोगों को भड़काने में लगे हुए हैं, आम आदमी डरा और सहमा हुआ है, ऐसे में जब आसाम में 19 लाख शरणार्थी जिनको एनआरसी के कारण शरणार्थी कैंपों में रहना पड़ रहा है उनमें से 16 लाख हिंदू और तीन लाख मुसलमान है। भाजपा लोगों को भड़का रही है कि ये कानून मुसलमानों के खिलाफ है जबकि एनआरसी और सीएए का ज्यादा नुकसान शरणार्थी कैंपों में रहने वालों पर पड़ रहा है, उनमें से 16 लाख हिंदू और 3 लाख मुसलमान है। भाजपा लोगों को भड़का रही है कि कानून मुसलमानों के खिलाफ है जबकि है यह NRC और CAA का नुकसान ज्यादा हिंदू परिवारों को हुआ है। CAA और एनआरसी हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई सभी धर्मों के खिलाफ है, इसलिए यह कानून वापस लिया जाना चाहिए, इससे देश में गृह युद्ध के हालात पैदा हो गए हैं, सभी धर्मों के लोग डरे और सहमे हुए हैं, यह डर खत्म होना चाहिए। यह बिल हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सभी धर्मों के खिलाफ है इसलिए यह कानून वापिस लिया जाना चाहिए। इस देश में ग्रह युद्ध के हालात पैदा हो गए सभी धर्मों के लोग डरे उसमें हुए हैं यह डर खत्म होना चाहिए और NRC एंव CAA को खत्म करना चाहिए।
खाचरियावास ने कहा कि सभी धर्मों के 5 लाख से अधिक लोगों के शामिल होने से भाजपा नेताओं का मानसिक संतुलन गड़बड़ा गया है।

No comments:

Post a Comment

Pages