दंतरोग विशेषज्ञों ने इम्प्लेंटोलॉजी में फेलियर्स और साइनस लिफ्ट के नेगेटिव इम्पैक्ट बताए - Pinkcity News

Breaking News

Sunday, 15 December 2019

दंतरोग विशेषज्ञों ने इम्प्लेंटोलॉजी में फेलियर्स और साइनस लिफ्ट के नेगेटिव इम्पैक्ट बताए

  • -देशभर के  200 से अधिक दंतरोग विशेषज्ञों ने किया मंथन
  • - कॉर्टिको-बैसल इम्प्लांटोलॉजी पर कॉन्फ्रेंस का समापन
 जयपुर, 15 दिसम्बर। सोसायटी फॉर इमिजिएट लॉडिंग इम्प्लेंटोलॉजी की ओर से होटल क्लार्क्स आमेर में चल रही तीन दिवसीय कॉर्टिको-बैसल इम्प्लेंटोलॉजी विषयक नेशनल डेंटिस्ट कान्फ्रेंस के आखिरी दिन रविवार को 20 लेक्चर्स हुए जिसमें देश भर के दंतरोग विशेषज्ञों ने इम्लांट संबंधी सबसे लेटेस्ट टेक्निक्स के बारे में बताया।
डॉ.विवेक गौर ने हाउ टु अवॉइड  फेलियर्स पर विचार कि इम्प्लेंटोलॉजी में  फेलियर्स को कैसे अवॉइड किया जाए। अपने अनुभव के आधार पर छोटी-छोटी कठिनाइयों आती हैं, अगर हम उनको नहीं सुधारे तो आगे जाकर फेलियर  हो जाती है। उन्होंने छोटे-छोटे टिप्स दिए ताकि फेलियर से बचा सके।  डॉ.बॉबी एंटोनी ने बताया कि साइनस लिफ्ट के नेगेटिव इम्पैक्ट बताए। साइनस लिफ्ट के को अवॉइड करके इमिजिएट लॉन्डिग करना अधिक बेहतर है। डॉ. जुगल पटेल ने इम्प्लांटोलॉजी की सबसे लेटेस्ट टेक्निक स्टे्रटेजिक एक्लुजन की जानकारी दी। डॉ. फैजर रहमान ने बताया कि प्रिंसीपल ऑफ एक्लुजन की विस्तृत जानकारी दी। इंटरनेशनल  इम्लांट की चेयरपर्सन एंटोनिया ईडे ने एस्थेटिक एंड प्रॉस्थेटिक एडवांसमेंट इन कॉर्टिको-बैसल इम्प्लेंटोलॉजी  की लेटेस्ट एडवांस, लेटेस्ट टेक्निक से नकली दांत बनाने की जानकारी दी। इवेंट आर्गेनाइजर डॉ.नीलम माहेश्वरी ने नो बॉर्न टेक्निक के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि बिना नकली हड्डी के सिर्फ 72 घंटों में फिक्स दांत लगाए जा सकते हैं। यह टेक्निक पायरिया, कैंसर या दुर्घटना के कारण गली हड्डी में अधिक कारगर है।  इसमें मरीज की अवेलेबल हड्डी में बैसल इंलाट किया जा सकता है। बैसल इम्प्लांटोलॉजिस्ट डॉ.अनीश तलवार ने बताया कि पिछले तीन दिन में देश के कोने-कोने से 250 से अधिक डेलिगेट्स ने हिस्सा लिया। डॉ.पुनीत भार्गव ने बताया कि नेशनल डेंटिस्ट कॉन्फ्रेंस में बैसल इम्प्लांट की एडवांस टेक्निक से हर उम्र के लोगों को होने वाले फायदे के बारे में बताया गया।  यह एडवांस टेक्निक मुफीद(सस्ती) ही नहीं दर्द रहित भी है, इस पर विचार मंथन किया गया। अगली डेंटिस्ट कॉन्फ्रेंस नए वर्ष की 20 जुलाई को हैदराबाद में होगी।

No comments:

Post a Comment

Pages