राजस्थान डिस्काॅम्स की वीडियो कान्फ्रेन्स : लाॅस कम करने व शत-प्रतिशत राजस्व वसूली के दिए निर्देश - Pinkcity News

Breaking News

Saturday, 23 November 2019

राजस्थान डिस्काॅम्स की वीडियो कान्फ्रेन्स : लाॅस कम करने व शत-प्रतिशत राजस्व वसूली के दिए निर्देश

 जयपुर, 23 नवम्बर। प्रमुख शासन सचिव ऊर्जा एवं अध्यक्ष डिस्काॅम्स कुंजीलाल मीणा ने वीडियो कान्फ्रेन्स के माध्यम से तीनों डिस्काॅम में ए टी एण्ड सी लाॅस कम करने व राजस्व वसूली एवं गत माह में आयोजित वीडियो कान्फ्रेन्स में दिए गए लक्ष्यों में अब तक हुई प्रगति की  समीक्षा करते हुए कहा कि डिस्काॅम के लाॅस कम करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका फीडर इंचार्ज की होती है।
कुंजीलाल मीणा ने शनिवार कोे वीडियो कान्फ्रेन्स के माध्यम से सर्किलवार समीक्षा करते हुए अच्छे कार्य करने वाले सर्किलों को बधाई दी एवं जिन सर्किलों का प्रदर्शन कमजोर रहा उनको आगामी वीसी से पूर्व सुधार
करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिनका कार्य प्रदर्शन ठीक नही रहेगा उनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही की जाएगी। जिसके तहत फीडर इंचार्ज के खिलाफ अधिशाषी अभियन्ता,  कनिष्ठ अभियन्ता के विरुद्ध अधीक्षण अभियन्ता एवं सहायक अभियन्ता के विरुद्ध संभागीय मुख्य अभियन्ता को कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए।

आज आयोजित वीडियो कान्फ्रेन्स में कुछ महत्वपूर्ण निर्देश डिस्काॅम अध्यक्ष ने दिए जिसके तहत अधिक लाॅस वाले अधिशाषी अभियन्ताओं की 7 दिसम्बर को जयपुर में बैठक आयोजित होगी, जिसमें उनसे लाॅस बढने के कारणों की जानकारी प्राप्त करके एवं उसे कम करने की कार्य योजना की जानकारी दी जाएगी। संभागीय मुख्य अभियन्ता अपने-अपने जोन में सहायक राजस्व अधिकारी एवं सहायक लेखाधिकारी-राजस्व की बैठक लेगें और शत-प्रतिशत राजस्व वसूली के लिए आवश्यक कार्यवाही करावेगें। 50 यूनिट से कम उपभोग वाले उपभोक्ताओं
की जांच के कार्य को लगातार जारी रखने के निर्देश भी दिए गए।  फीडर इंचार्ज को निर्देश दिए गए कि वे एक रजिस्टर रखे और उसमें अपने फीडर के उपभोक्ताओं का पूरा विवरण रखे और आगामी बैठक में इस रजिस्टर को साथ लेकर आए। इसके साथ ही एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया कि आगामी वीडियो कान्फ्रेन्स में प्रत्येक जिले में सबसे अच्छा कार्य करने वाले एक-एक फीडर इंचार्ज, कनिष्ठ अभियन्ता, सहायक अभियन्ता, अधिशाषी अभियन्ता, विजीलेन्स के अभियन्ता एवं सहायक राजस्व अधिकारी को सम्मानित किया जाएगा।

 जयपुर डिस्काॅम के प्रबन्ध निदेशक ए.के.गुप्ता ने जयपुर डिस्काॅम में विद्युत छीजत कम करने एवं राजस्व वसूली की प्रगति की समीक्षा करते हुए विद्युत छीजत कम करने एवं शत-प्रतिशत राजस्व वसूली की जिम्मेदारी अधिशाषी अभियन्ताओं को सौपी गई। इसके लिए प्रत्येक अधिशाषी अभियन्ता अपने क्षेत्र के फीडर इंचार्ज की हर महिने बैठक लेगे। उन्होंने सभी अभियन्ताओं को निर्देश दिए कि घरेलू कनेक्शनों के साथ ही होटल व अन्य बड़े संस्थानों के कनेक्शनों की भी जांच करे।

वीडियो कान्फ्रेन्स में केपीआई के कार्य की भी समीक्षा की गई, जिसके तहत अच्छे कार्य करने वालों के अनुभव साझा किए गए और जिनका कार्य कमजोर रहा है उन्हे सुधार करने के निर्देश दिए गए। आगामी समय में केपीआई के आधार पर ही अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कार्य का मूल्यांकन किया जाएगा। वीडियो कान्फ्रेन्स के समापन पर प्रमुख शासन सचिव ऊर्जा एवं अध्यक्ष डिस्काॅम्स ने का कि आज दिए गए निर्देशों की अक्षरशः पालना होनी चाहिए और शत-प्रतिशत राजस्व वसूली एवं 50 यूनिट से कम उपभोग वाले उपभोक्ताओं की जांच का कार्य लगातार जारी रहना चाहिए।

वीडियो कान्फ्रेन्स में अजमेर डिस्काॅम के प्रबन्ध निदेशक वी. एस. भाटी, जोधपुर डिस्काॅम के प्रबन्ध निदेशक श्री अविनाश सिंघवी सहित सभी विद्युत निगमों के निदेशक तकनीकी, सचिव-प्रशासन, मुख्य लेखा नियंत्रक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतर्कता, मुख्य अभियन्ता, संभागीय मुख्य अभियन्ता, अधीक्षण अभियन्ता, अधिशाषी अभियन्ता, सहायक अभियन्ता, कनिष्ठ अभियन्ता, सहायक राजस्व अधिकारी एवं फीडर इंचार्ज उपस्थित रहे।

No comments:

Post a comment

Pages