डेढ़ हजार शादियों से थमी राजधानी की रफ्तार, एकल और सामूहिक विवाह की रही धूम - Pinkcity News

Breaking News

Friday, 8 November 2019

डेढ़ हजार शादियों से थमी राजधानी की रफ्तार, एकल और सामूहिक विवाह की रही धूम

जयपुर। देवप्रबोधिनी एकादशी पर राजधानी में शुक्रवार को चार माह बाद शहनाइयां गूंजी। एक ही दिन में करीब 1500 शादियां हुईं। घरों और विवाह स्थलों पर सुबह से ही शादी की रस्में हुईं। शाम को जगह-जगह गाजे-बाजे के साथ निकली बारात से जाम की स्थिति बन गई। देवउठनी ग्यारस के साथ ही शुरू हुआ शहनाइयां गूंजने का दौर दिसंबर तक चलेगा। इन दो माह में 15 सावे हैं। सबसे अधिक विवाह 22 नवंबर को होंगे। आचार्य महेन्द्र मिश्रा के अनुसार नवंबर माह में नौ और दिसंबर माह में छह सावे हैं। 8 नवंबर के बाद 18, 19, 20, 21, 22, 23, 28 और 30 नवंबर को शहनाई गूंजेगी। दिसंबर में  1, 5, 6, 7, 11 और 12 को शादियां होंगी। चार माह से रूके हिंदू धर्माविलंबियों के मांगलिक कार्य शुक्रवार से शुरू हो  गए। शादियों के अलावा नवीन गृह प्रवेश, यज्ञोपवीत संस्कार, नवीन व्यापार आरंभ के मांगलिक कार्य भी अब गति पकड़ेंगे। 
दो जगह सामूहिक विवाह सम्मेलन:
राजधानी में शुक्रवार को विद्याधरनगर और जयसिंहपुरा खोर में सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित किए गए। हरि ओम जन सेवा समिति की ओर से विद्याधर नगर सेक्टर चार के जांगिड़ ब्राह्मण महासभा में सर्व समाज के आदर्श सामूहिक विवाह सम्मेलन हुआ। इसमें चार जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। सुबह 8 बजे विद्याधर नगर सेक्टर-दो स्थित पटक पछाड़ हनुमान मंदिर से सामूहिक बारात रवाना होकर कार्यक्रम स्थल जांगिड़ ब्राह्मण महासभा भवन पहुंची। भगवान सीताराम के रथ और गाजे-बाजे के साथ निकलने वाली बारात में बाराती नाचते हुए चल रहे थ। यहां पूरे विधि विधान के साथ पाणिग्रहण संस्कार की रस्म हुई। वर-वधु को सात फेरों के बाद कन्या भू्रण हत्या नहीं करने की शपथ दिलाई गई।
समिति के संरक्षक एवं संस्थापक राजेंद्र सदानंद महाराज, विधायक नरपत सिंह राजवी, कांग्रेस नेता सीताराम अग्रवाल सहित अनेक अतिथियों ने वर-वधु को आशीर्वाद प्रदान किया। समिति के प्रदेश अध्यक्ष सूर्यप्रकाश जोशी, महासचिव पंकज गोयल, कोषाध्यक्ष सरदार रणजीत सिंह, उपाध्यक्ष महेश शर्मा, उपसचिव  राजू बस्सी, जयपुर शहर अध्यक्ष सुरेश जांगिड़, जयपुर शहर महामंत्री संजय खंडेलवाल सहित अन्य पदाधिकारियों ने विवाह की व्यवस्थाएं संभाली। समिति की ओर से वर-वधु को घरेलू सामान उपहार स्वरूप प्रदान किया गया।
उधर, माली सैनी समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन जयसिंहपुरा के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित किया गया। इसमें 33 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। सम्मेलन के मुख्य संयोजक ग्यारसी लाल माली ने बताया कि अनेक अतिथियों ने वर-वधु को आशीर्वाद प्रदान किया।



No comments:

Post a comment

Pages