जयपुर जिले के 60 राजकीय स्कूलों के 30 हजार से अधिक विद्यार्थी पढ़ेंगे स्मार्ट क्लासेज में - Pinkcity News

Breaking News

Friday, 8 November 2019

जयपुर जिले के 60 राजकीय स्कूलों के 30 हजार से अधिक विद्यार्थी पढ़ेंगे स्मार्ट क्लासेज में

 कलक्टर जगरूप सिंह यादव शनिवार को करेंगे प्रोजेक्ट उत्कर्ष, ‘‘स्कूल इन ए बॉक्स’’ का उद्घाटन
झोटवाड़ा,  बस्सी, आमेर, जयपुर पूर्व एवं पष्चिम ब्लॉक में हैं चयनित स्कूल
- शनिवार को संस्था प्रधानों एवं प्रॉजेक्ट प्रभारियों का कार्यषाला में होगा आमुखीकरण
 
जयपुर, 8 नवम्बर। जयपुर जिले के करीब 60 राजकीय सैकण्डरी एवं सीनियर सैकण्डरी विद्यालयों के 30 हजार से भी अधिक विद्यार्थी स्मार्ट क्लासेज के जरिए न केवल अपने पाठ्यक्रम से जुड़े विषयों का बल्कि बिना इंटरनेट ई-लाइब्रेसी और दर्जनों ज्ञानवर्द्धक वीडियो सहित विष्व-स्तरीय अध्ययन सामग्री का लाभ ले सकेंगे। इन विद्यािर्थयों को यह सुविधा ‘प्रोजेक्ट उत्कर्ष’ के अन्तर्गत आईसीटी लैब स्मार्ट नॉलेज सर्वर यानी ‘स्कूल इन ए बाक्स’ द्वारा प्रदान की जाएगी। जिला कलक्टर जगरूप सिंह यादव शनिवार को प्रातः 11 बजे राजकीय महारानी बालिका उच्च माध्यमिक बनीपार्क जयपुर में स्मार्ट नॉलेज सर्वर द्वारा संचालित स्मार्ट क्लास का उद्घाटन करेंगे।
यादव ने बताया कि इन 60 विद्यालयों में त्रिवर्षीय प्रोजेक्ट उत्कर्ष के इसी शैक्षणिक सत्र से प्रभावी क्रियान्वयन के लिए सम्बन्धित विद्यालयों के संस्था प्रधानों एवं प्रॉजेक्ट प्रभारियों के लिए शनिवार को प्रातः 11 से दोपहर 1 बजे तक राजकीय महारानी बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय , बनीपार्क में आमुखीकरण कार्यषाला का आयोजन भी किया जाएगा। जिले में झोटवाड़ा,  बस्सी, आमेर, जयपुर पूर्व एवं जयपुर पष्चिम ब्लॉक में आईसीटी सर्वर सुविधायुक्त 60 राजकीय विद्यालयों में यह त्रिवर्षीय प्रॉजेक्ट संचालित किया जा रहा है। सम्बन्धित विद्यालयों में ‘‘स्कूल इन बॉक्स’’ स्थापित कर कक्षा 8, 9 एवं 10 के विद्यार्थियों को बिना इंटरनेट निर्भरता के ई-लाइब्रेरी, स्मार्ट क्लासेज एवं ई लर्निग की सुविधा प्रदान की जाएगी।
यादव ने बताया कि सूचना एवं प्रौद्योेगिकी के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण षिक्षा को प्रोत्साहित करने एवं विषय को समझने की प्रक्रिया को सरल एवं रूचिपूर्ण बनाने के लिए  जिला प्रषासन, षिक्षा विभाग एवं मोइनी फाउण्डेषन जयपुर द्वारा एचडीएफसी के सीएसआर सहयोग से यह प्रॉजेक्ट संचालित किया जा रहा है। इसकी डेषबोर्ड द्वारा नियमित रूप से रिमोट मॉनिटरिंग की जाएगी एवं जिला प्रषासन द्वारा भी प्रोजेक्ट की प्रगति की नियमित समीक्षा की जाएगी।
मोइनी फाउण्डेषन के निदेषक डॉ. विजय व्यास ने बताया कि इन साठ राजकीय विद्यालयों में स्कूल इन बॉक्स के सेटअप लगाए जा चुके हैं। प्रॉजेक्ट के त्रिवर्षीय क्रियान्वयन से जिले के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के 30 हजार से भी अधिक विद्यार्थियेां को बिना इंटरनेट की निर्भरता के विविध विषयों की जानकारी दी जाएगी। उन्हें पाठ्यक्रम से इतर विषय यथा खान-अकैडमी, टेªड टॉक्स, क्विज-एकेडमी, विकिपीडिया, हिन्दी शब्दकोष, टाइपिंग ट्यूटर, रोचक ज्ञानवर्धक, गणित, साइन्स के वीडियो, स्कूली षिक्षा संबंधित आरबीएसई एवं एनसीईआरटी (हिन्दी माध्यम) की टेक्स्ट-बुक्स, एनिमेषन, कम्प्यूटर में प्रयोगषाला विज्ञान आधारित-कबाड़ से खिलौने बनाने जैसे वीडियो आदि उपलब्ध करवाए जाएंगे। इससे सरकार द्वारा प्रदत आईसीटी संसाधनों का स्मार्ट क्लास एवं ई- लर्निंग के लिए समुचित उपयोग संभव हो सकेगा।

No comments:

Post a comment

Pages