प्रदूषण नियंत्रण और सरकारी संस्थाओं की भूमिका पर मंथन - Pinkcity News

Breaking

Thursday, 26 September 2019

प्रदूषण नियंत्रण और सरकारी संस्थाओं की भूमिका पर मंथन

जयपुर, 26 सितम्बर। राजस्थान सरकार के पर्यावरण विभाग तथा राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल द्वारा आईआईटी मुंबई के सहयोग से “प्रदूषण नियंत्रण एवं सरकारी संस्थाओं की भूमिका” विषय पर गुरुवार को कार्यशाला का शुभारम्भ हुआ। राज्य सरकार द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए पहल करते हुए यह दो  दिवसीय कार्यशाला झालाना स्थित डब्ल्यू एस एस ओ में आयोजित की जा रही है।
इस अवसर पर मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता ने बताया कि इस आमुखीकरण कार्यशाला के माध्यम से  पर्यावरण संरक्षण से संबंध रखने वाले विभाग, नगर निगम, जिला कलक्टर तथा विषय विशेषज्ञों को एक साथ लाया गया है। उन्होंने कहा कि यह पर्यावरण को सुरक्षित करने के प्रयासों तथा इससे संबंधित नियमों को लागू करने में आ रही समस्याओं का वैज्ञानिक तरीके से सार्थक समाधान खोजने की एक पहल है।
 गुप्ता ने कहा कि यह समय पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर गंभीरता से विचार करने का है क्योंकि सुरक्षित भविष्य के लिए सुरक्षित पर्यावरण होना सबसे अहम शर्त है और हमें विकास के साथ- साथ इससे जुड़ी चुनौतियों का समाधान खोजना होगा। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) द्वारा पर्यावरण संरक्षण के संबंध में विभिन्न नियम तथा दिशा-निर्देश जारी किये गए हैं, जिनकी कड़ाई के साथ पालना करवाना सरकार की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि इन नियमों के अलावा हमें खुद भी पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रोएक्टिव होकर काम करना होगा।
मुख्य सचिव ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण से जुड़े नियमों की पालना करवाने में जिला कलक्टर की भूमिका सबसे महत्त्वपूर्ण है। इस कार्यशाला के जरिये कलक्टर सीधे विषय विशेषज्ञों के साथ चर्चा कर पर्यावरण संरक्षण के मुद्दों पर आ रही परेशानियों का भी समाधान कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदूषण के वास्तविक कारणों को खोजा जाना उतना ही आवश्यक है, जितना उसे कम करने के उपाय खोजना। उन्होंने बताया कि कार्यशाला में दो दिनों के दौरान पर्यावरण संरक्षण से जुडें नियमों, दूषित जल की रीसाइकलिंग, बायोमेडिकल वेस्ट, सॉलिड वेस्ट प्रबंधन आदि विषयों पर चर्चा की जाएगी। इस अवसर पर मुख्य सचिव ने पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया।
इस अवसर पर राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण मण्डल के अध्यक्ष पी के गोयल, पर्यावरण विभाग की प्रमुख शासन सचिव श्रेया गुहा तथा सचिव डॉ. दीप पाण्डे के अतिरिक्त जयपुर, अलवर, पाली भरतपुर, डूंगरपुर के जिला कलक्टर, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, प्रदूषण नियंत्रण मण्डल, रीको, स्वायत्त शासन विभाग के अधिकारी तथा नगर निगम के अधिकारी उपस्थित थे। कार्यशाला में आई आईटी बॉम्बे से प्रो. सतीश बी अग्निहोत्री, प्रो. अजय ए देशपाण्डे, प्रो. श्याम आर असोलेकर, प्रो. वृन्दा सेठी उपस्थित थे।


No comments:

Post a Comment

Pages