घटना कब हुई के बजाए क्यों हुई जानना है ज़्यादा जरूरी : विनीत बंसल - Pinkcity News

Breaking

Saturday, 7 September 2019

घटना कब हुई के बजाए क्यों हुई जानना है ज़्यादा जरूरी : विनीत बंसल

  •  डिजाइनिंग में फैशन डिजाइनिंग के अलावा भी कही प्रकार की डिजाइनिंग क्षेत्र है : गुरुकुल स्कूल ऑफ़ डिज़ाइन 
जयपुर , 7  सिंतबर 2019 : सी-स्कीम स्थित संत ज़ेवियर सीनियर सेकेंडरी स्कूल जयपुर में शनिवार 7 सिंतबर 2019 को कैरियर काउंसिलिंग सेमिनार वाइब्रेंट ज़ेवियरस का आयोजन हुआ जिसमे विभिन सत्रों मैं अलग -अलग विषयों मैं महारत रखने वाले विशेषज्ञ ने अपने अनुभवों को छात्र -छात्राओ के साथ साझा करा। कार्यक्रम में संत ज़ेवियर सीनियर सेकेंडरी स्कूल जयपुर के रेक्टर फादर वर्की पैरेकेट और प्रिंसिपल फादर डोमिनिक उपस्तिथ रहे।
वाइब्रेंट ज़ेवियरस के कोऑर्डिनेटर विनीत बंसल ने बताया कि जयपुर शहर के 10 स्कूल के करीब 350 स्टूडेंट्स ने इसमें लिया । इस कार्यक्रम के पहले सेशन में गोयनका इंस्टिट्यूट ऑफ़ करियर काउंसलिंग के सीईओ रवि गोयनका ने पायलट एंड एवीएशन के क्षेत्र में अपना करियर बनाने हेतु जानकारी दी और स्टूडेंट्स को राय दी की केवल कॉलेज की रैंकिंग देख कर एडमिशन ना ले। दूसरे सेशन में गुरुकुल स्कूल ऑफ़ डिज़ाइन से इंग्लैंड की डिज़ाइनर लिज़ा का व्यख्यान हुआ जिसमे उन्होने स्टूडेंट्स को बताया की डिजाइनिंग फ़ील्ड में फैशन डिजाइनिंग के अलावा भी कही प्रकार की डिजाइनिंग क्षेत्र है और उन क्षेत्रों के बारे में स्टूडेंट्स को जानकारी दी । तीसरे सेशन में ग्लोबल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी के सीईओ नमन कंदोई ने बच्चों को जीवन में सफ़लता प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया और वो स्टूडेंट्स जिनकी इंग्लिश स्पीकिंग स्किल्स वीक है उन्हें उस से उभर ने के लिए उपाय बताए। चौथे सेशन में क्लैट प्रेप से अभिषेक चतुर्वेदी का व्याख्यान हुआ जिसमे उन्होंने लॉ एंड आर्डर के क्षेत्र की जानकारी दी। आखरी सेशन में इस कार्यक्रम के आयोजक विनीत बंसल ने सिविल सर्विसेस के क्षेत्र की जानकारी स्टूडेंट्स के साथ शेयर की।
वाइब्रेंट ज़ेवियरस के मीडिया कोऑर्डिनेटर ईशान हर्ष ने बताया कि इस वर्ष वाइब्रेंट ज़ेवियर मे विद्यार्थियों को विभिन विषयो पर सारभूत ज्ञान मिला जो उनके भावी जीवन की मजबूत नींव तैयार करने मे मददगार साबित होगा। प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिस से स्टूडेंट्स को समाज मैं होने वाले बदलाव ,
नए शैक्षणिक कोर्स वे संस्थानों के बारे मैं बताया जाता है।  यह कार्यक्रम पूर्ण रूप से छात्रो का ,
छात्रो द्वारा , छात्रो के लिए है जो की स्वपोषित हैं। ये कार्यक्रम छात्रों को उनके जीवन की मजबूत नीव तैयार करने मैं  मददगार साबित होता है।

No comments:

Post a Comment

Pages