राजस्थान में खनन एवं पेट्रोलियम में रोजगार की बड़ी संभावनाएं : मुख्यमंत्री - Pinkcity News

Breaking

Sunday, 22 September 2019

राजस्थान में खनन एवं पेट्रोलियम में रोजगार की बड़ी संभावनाएं : मुख्यमंत्री

मणिपाल यूनिवर्सिटी के हॉस्टल कॉम्प्लेक्स एवं एकेडमिक ब्लॉक का उद्घाटन
 जयपुर, 22 सितंबर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में खनन, पेट्रोलियम तथा सर्विस सेक्टर में रोजगार की बड़ी संभावनाएं मौजूद हैं। रिफाइनरी प्रोजेक्ट का काम भी तेजी से चल रहा है। ऎसे में उच्च शिक्षण संस्थान इन क्षेत्रों से संबंधित कोर्स संचालित करें, ताकि प्रदेश के अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मिल सके।
गहलोत रविवार को मणिपाल यूनिवर्सिटी कैम्पस में हॉस्टल कॉम्प्लेक्स एवं एकेडमिक ब्लॉक-द्वितीय के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि रिफाइनरी जैसे महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के संचालित होने से प्रदेश के नौजवानों को बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर मिलेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि 20 साल पहले जब मैं पहली बार मुख्यमंत्री बना तब उच्च शिक्षा के लिए राजस्थान के नौजवानों को दूसरे राज्यों में जाना पड़ता था। हमारी सरकार ने इस माहौल को बदला और आज प्रदेश में बड़ी संख्या में मेडिकल एवं इंजीनियरिंग सहित तमाम विधाओं से जुड़े टैक्नीकल इंस्टीट्यूट और विश्वविद्यालय स्थापित हो चुके हैं। इसी का नतीजा है कि शिक्षा के क्षेत्र में राजस्थान की पहचान बनी है। यहां के युवा दुनियाभर के देशों में अपनी प्रतिभा की छाप छोड़ रहे हैं। हमारा प्रयास है कि राजस्थान शिक्षा के क्षेत्र में सिरमौर बने।
गहलोत ने कहा कि आज देश आत्मनिर्भर बनने की दिशा में अग्रसर हो सका है यह कोई पांच-सात साल का काम नहीं है। सत्तर साल तक किए गए सतत प्रयासों से ही यह संभव हो सका है। पं. नेहरू जैसे नेताओं की दूरदर्शी सोच और मेहनत का ही नतीजा है कि देश में इसरो, आईआईटी, एम्स और आईआईएम जैसे प्रतिष्ठित संस्थान स्थापित हुए और हम मंगलयान और चन्द्रयान जैसे मिशन को अंजाम दे पा रहे हैं। प. नेहरू, मौलाना आजाद, सरदार पटेल, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी जैसे नेताओं ने देश में लोकतंत्र की जडें़ मजबूत कीं।
मुख्यमंत्री ने देश के आर्थिक हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि आज ऑटोमोबाइल, टैक्सटाइल सहित अधिकतर सेक्टर मंदी के दौर से गुजर रहे हैं। युवाओं को नौकरियां मिलना तो दूर की बात है, नौकरियां जा रही हैं। काम-धंधे ठप पड़े हैं। इसके लिए उत्तरदायी कारणों पर चिन्तन करते हुए मिल-जुलकर आगे बढ़ना चाहिए।
इससे पहले मुख्यमंत्री ने मणिपाल यूनिवर्सिटी के कैम्पस का दौरा कर बीते 8 साल में हुए इसके विस्तार की सराहना की। उन्होंने कहा कि कम समय में ही विश्वविद्यालय में जो काम हुआ है वो बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने निशानेबाजी में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए विश्वविद्यालय की छात्रा मानिनी कौशिक, छात्र पैरा एथलीट मनीष पांडे तथा स्टार्टअप फाउंडर मनन इस्सर को सम्मानित किया।
नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने विश्वविद्यालय प्रबंधन को सुझाव देते हुए कहा कि वे तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने के साथ-साथ स्किल्ड मैन पावर तैयार करें। 
ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत के प्रयासों से प्रदेश में गुणात्मक उच्च शिक्षा का आधारभूत ढांचा तैयार हुआ है।
उच्च शिक्षा राज्यमंत्री भंवरसिंह भाटी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बजट में 50 नये कॉलेज खोलने की घोषणा की है। इससे प्रदेश में उच्च शिक्षा को बढ़ावा मिलेगा।
विधायक गंगा देवी, विश्वविद्यालय के प्रेसिडेन्ट जीके प्रभु, मणिपाल मेडिकल एण्ड एज्यूकेशन समूह के सलाहकार अभय जैन और विश्वविद्यालय के प्रो-प्रेसिडेन्ट डॉ. एनएन शर्मा ने भी समारोह को संबोधित किया। इस अवसर पर मणिपाल समूह के चेयरमैन रंजन पाई सहित बड़ी संख्या में विश्वविद्यालय के फैकल्टी मैम्बर और विद्यार्थी भी उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Pages