जयपुर सहकारी भूमि विकास बैंक के 39.93 करोड़ के दीर्घकालीन ऋण माफ, 1627 ऋणी किसानों को मिला फायदा - Pinkcity News

Breaking

Sunday, 29 September 2019

जयपुर सहकारी भूमि विकास बैंक के 39.93 करोड़ के दीर्घकालीन ऋण माफ, 1627 ऋणी किसानों को मिला फायदा

Image result for farmers loan mafi cartoon जयपुर, 29 सितम्बर। जयपुर सहकारी भूमि विकास बैंक के किसानों के 39 करोड़ 92 लाख 85 हजार रुपये के दीर्घ कालीन कृषि ऋण माफ हुये हैं। राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना, 2019 के तहत लघु एवं सीमान्त कृषकों के 2 लाख रुपये के अवधिपार बकाया दीर्घ कालीन कृषि ऋण माफ किये गये हैं। इससे जिले के 8 बीघा तक की कृषि भूमि रखने वाल 1627 ऋणी किसानों को लाभ मिला है। यह जानकारी जयपुर सहकारी भूमि विकास बैंक प्रशासक और अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रथम जयपुर इकबाल खान ने रविवार को यहां सहकार भवन में बैंक की वार्षिक साधारण सभा में दी ।
       उन्होंने बताया कि जिन किसानों के ऋण माफ हुये हैं, ऐसे सभी किसानों की रहन रखी हुई भूमि को उनके नाम करने के लिये कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2018-19 में 60 प्रतिशत वसूली के लक्ष्य के विरूद्ध 50.59 प्रतिशत वसूली की गई है, जो गत वर्ष से 17.79 प्रतिशत अधिक है। श्री खान ने सदस्यों से समय पर ऋण जमा कराने का आग्रह किया, ताकि बैंक अधिक से अधिक किसानों को ऋण दे सके।
     
730 × 520
बैंक के सचिव राजेन्द्र कुमार मीना ने बताया कि बैंक द्वारा किसानों को पांच वर्ष से 15 वर्ष तक के लिये अलग-अलग कार्यों हेतु ऋण का वितरण किया जा रहा है। कृषि एवं अकृषि आधारित ऋणों जैसे- नवकूप निर्माण, पम्पसेट, फव्वारा सिंचाई, ड्रिप इरिगेशन, ट्रेक्टर, ट्रॉली, गाय-भैंस, भेड़ पालन, बकरी पालन, मुर्गी पालन इत्यादि कार्यों के लिये अनुदान के साथ बैंक द्वारा ऋण वितरण की कार्य योजना बनाई गई है ताकि किसानों के आर्थिक एवं सामाजिक विकास को नई दिशा दी जा सके।
उन्होंने बताया कि इसके अलावा लघु सिंचाई योजना, कुटीर उद्योग, ग्रामीण विकास एवं अन्य विविधिकृत कार्यों के लिये भी सदस्य किसानों को ऋण उपलब्ध कराये जायेंगे। आमसभा में वर्ष 2018-19 के अंकेक्षित लेखों, अनुपालना रिपोर्ट, संतुलन चित्र व वर्ष 2019-20 के लिये वार्षिक बजट का अनुमोदन किया गया।
       साधारण सभा के दौरान सदस्य किसानों ने बहुमूल्य सुझाव दिये गये, जिन पर प्रशासक ने उचित कार्यवाही किए जाने का आश्वासन दिया।

No comments:

Post a Comment

Pages