नामचीन शायर शीन काफ़ निज़ाम को मिलेगा शमीम जयपुरी अवॉर्ड 2019 - Pinkcity News

Breaking

Thursday, 12 September 2019

नामचीन शायर शीन काफ़ निज़ाम को मिलेगा शमीम जयपुरी अवॉर्ड 2019

14 सितम्बर को होटल क्लार्क्स आमेर में होगा कार्यक्रम "याद-ए-मोहम्मद हुसैन"
जयपुर, 12 सितम्बर। साम्प्रदायिक सद्भाव, महिला शिक्षा और समाजसेवा के क्षेत्र में सक्रिय रहे समाजसेवी मोहम्मद हुसैन की याद में 14 सितम्बर 2019 को शाम 4 बजे होटल क्लार्क्स आमेर में कार्यक्रम "याद-ए-मोहम्मद हुसैन" आयोजित किया जाएगा। इस दौरान ऊर्दू-हिंदी के नामचीन शायर शीन काफ़ निज़ाम को शमीम जयपुरी अवॉर्ड 2019 से सम्मानित किया जाएगा।
कार्यक्रम संयोजक इवेंट गुरु अरशद हुसैन व अमजद हुसैन ने बताया कि इस दौरान जनाब मोहम्मद हुसैन के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर चर्चा के साथ ही शायर शीन काफ़ निज़ाम अपनी चुनिन्दा नज़्में भी पेश करेंगे। उल्लेखनीय है कि जयपुर से ताल्लुक रखने वाले शायर व गीतकार शमीम जयपुरी ने हिन्दी सिनेमा की कई फिल्मों के लिए गीत लिखे हैं जिनमें ‘‘अकेले हैं चले आओ कहां हो’’ एवं ‘‘मुझको इस रात की तन्हाई में आवाज न दो’’ सरीखे गीत शामिल हैं। शमीम जयपुरी की याद में यह अवॉर्ड देश के प्रख्यात शायर को दिया जाता है जिन्होंने लंबे अरसे से ऊर्दू साहित्य की सेवा की है। पूर्व में शमीम जयपुरी अवॉर्ड ऊर्दू शायर वसीम बरेलवी और राजस्थानी साहित्यकार इकराम राजस्थानी को दिया जा चुका है।
शायर शीन काफ़ निज़ाम का असल नाम शिव किशन है, लेकिन ऊर्दू भाषा से लंबे जुड़ाव के कारण उनका उप नाम शीन काफ़ निज़ाम ही उनकी पहचान बन गया। उनके द्वारा रचित कविता संग्रह "गुमशुदा दैर की गूंजती घंटियां" के लिए उन्हें वर्ष 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। 

No comments:

Post a Comment

Pages