डिजिटल इंडिया में तेज़ी लाने में मदद के लिए माइक्रोसॉफ्ट ने की डिजिटल गवर्नेंस टेक टूर की घोषणा - Pinkcity News

Breaking

Tuesday, 27 August 2019

डिजिटल इंडिया में तेज़ी लाने में मदद के लिए माइक्रोसॉफ्ट ने की डिजिटल गवर्नेंस टेक टूर की घोषणा


एआई और क्लाउड पर सरकारी अधिकारियों के कौशल विकास की राष्ट्रव्यापी पहल
 दिल्ली 27 अगस्त, 2019: माइक्रोसॉफ्ट इंडिया की ओर से आज डिजिटल गवर्नेंस टेक टूर का शुभारंभ किया गया जो भारत सरकार के डिजिटल इंडिया विज़न के अनुरूप है। यह पूरे देश में आईटी का कार्यभार ग्रहण करने वाले सभी सरकारी अधिकारियों को अति महत्वपूर्ण एआई तथा इंटेलिजेंट क्लाउड कंप्यूटिंग कौशल प्रदान करने के लिए शुरू किया गया एक राष्ट्रीय कार्यक्रम है। इस पहल के अंतर्गत वास्तविक और आभासी कार्यशालाओं की एक श्रृंखला का आयोजन किया जाएगा, जिसका लक्ष्य 12 महीनों के दौरान 5,000 कर्मचारियों को प्रशिक्षण देना है। यह घोषणा एआई और सुरक्षित क्लाउड प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने हेतु सरकारी संगठनों को सशक्त बनाने के संदर्भ में माइक्रोसॉफ्ट की प्रतिबद्धता की पुनः पुष्टि करती है, ताकि शासन व्यवस्था को ज्यादा कुशल, पारदर्शी और कार्यक्षम बनाया जा सके।
नई दिल्ली में आयोजित डिजिटल गवर्नेंस टेक समिट-2019 के दौरान अमिताभ कांत, सीईओ, नीति आयोग तथा अजय प्रकाश साहनी, सचिव, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया, तथा इस अवसर पर डॉ. नीता वर्मा, महानिदेशक, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (NIC); सुरेश कुमार नायर, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी, सरकारी ई-मार्केटप्लेस (GEM); डॉ. ओमकार राय, महानिदेशक, भारतीय सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्क (STPI), अनंत माहेश्वरी, अध्यक्ष, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के साथ-साथ कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। NIC, GEM और STPI के सहयोग से नई दिल्ली में इस शिखर सम्मेलन का आयोजन किया गया।
आज हर क्षेत्र में एआई और इंटेलिजेंट टेक्नोलॉजी का बड़े पैमाने पर प्रचार हुआ है, जिससे हर तरह के कारोबार, समुदायों और सरकारों में बदलाव आ रहा है। चूंकि भारत अब 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के अपने विज़न को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ चला है, इसलिए अगर सुरक्षित एवं अनुरूप क्लाउड-आधारित टूल की मदद से एआई और डेटा एनालिटिक्स को लागू किया जाए तो नागरिक केंद्रित सेवाओं को पहले की अपेक्षा अधिक कार्रवाई योग्य, पूर्वानुमेय और प्रभावी बनाया जा सकता है, साथ ही अंतर-विभागीय तथा विभिन्न एजेंसियों के बीच पारस्परिक सहयोग को अधिक सुरक्षित व सशक्त बनाया जा सकता है। इस कार्यक्रम के माध्यम से, माइक्रोसॉफ्ट सरकारी अधिकारियों को अपना कौशल विकसित करने में मदद करेगा, साथ ही क्लाउड आधारित समाधानों के असरदार तरीके से इस्तेमाल के लिए उन्हें वर्तमान में एवं भविष्य में आवश्यक डिजिटल कौशल और अनुभव से लैस करेगा।
नीति आयोग के अध्यक्ष अमिताभ कांत ने कहा, "हमारे देश में समावेशी आर्थिक विकास के लिए सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों में एआई, क्लाउड सेवाओं एवं डेटा एनालिटिक्स की शक्ति का इस्तेमाल किया जाना बेहद जरूरी है। अब हम प्रायोगिक चरण से आगे निकल चुके हैं और समझते हैं कि राज्यों एवं सभी क्षेत्रों में एआई के कार्यान्वयन और क्लाउड के अभिकरण का किस तरह बड़े पैमाने पर विस्तार किया जाए, और इसी वजह से पूरी व्यवस्था को उपयुक्त ज्ञान तथा कौशल से सुसज्जित करना बेहद अहम है। शिक्षाविदों तथा उद्योग जगत के सहयोग, तथा इस तरह की पहल की मदद से एआई पर आधारित भविष्य की बुनियाद तैयार करने में मदद मिलेगी।”
माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के अध्यक्ष, अनंत महेश्वरी ने कहा, “एआई और क्लाउड क्रांतिकारी बदलाव लाने वाले नवाचार को प्रोत्साहन दे सकते हैं तथा भारत के विकास के अगले चरण के वाहक हैं। इस सपने को साकार करने के लिए, सभी के लिए कौशल सीखने और इसे बेहतर बनाने पर निरंतर ध्यान केंद्रित करना आवश्यक है। सरकारी अधिकारियों के लिए माइक्रोसॉफ्ट का अपनी तरह का पहला डिजिटल गवर्नेंस टेक टूर, वास्तव में प्रौद्योगिकी की मदद से नागरिकों की सेवा में अधिकारियों को सक्षम एवं सशक्त बनाने की दिशा में सरकार के साथ विश्वसनीय भागीदारी की हमारी प्रतिबद्धता को दोहराता है।”

No comments:

Post a Comment

Pages