"बाजे छै नौबत बाजा म्हारा डिग्गीपुरी का राजा..." मधुर स्वर लहरियों के साथ बाजे छै नौबत बाजा म्हारा डिग्गीपुरी का राजा मधुर स्वर लहरियों के साथ श्री कल्याणजी डिग्गीपुरी की 54वीं लक्खी पदयात्रा निकली - Pinkcity News

Breaking

Tuesday, 6 August 2019

"बाजे छै नौबत बाजा म्हारा डिग्गीपुरी का राजा..." मधुर स्वर लहरियों के साथ बाजे छै नौबत बाजा म्हारा डिग्गीपुरी का राजा मधुर स्वर लहरियों के साथ श्री कल्याणजी डिग्गीपुरी की 54वीं लक्खी पदयात्रा निकली

डिग्गी कल्याण जी padyatra in jaipur के लिए इमेज परिणाम
जयपुर। बाजे छै नौबत बाजा म्हारा डिग्गीपुरी का राजा मधुर स्वर लहरियों के साथ श्री कल्याणजी डिग्गीपुरी की 54वीं लक्खी पदयात्रा मंगलवार को चौड़ा रास्ता स्थित ताड़केश्वर मंदिर से रवाना हुई। लतापीठाधीश्वर अवधेशाचार्य महाराज, महामंडलेश्वर पुरुषोत्तम भारती, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, ठाकुर राम प्रताप सिंह सहित कई अन्य विशिष्ट जनों ने पदयात्रा को ध्वज पूजन कर रवाना किया।
 पदयात्रा के करण  चारदीवारी पूरी तरह श्रद्धालुओं से अट गई। रामनिवास गार्डन, मोतीडूंगरी गणेश मंदिर, रिजर्व बंैक ऐरिया, टोंक रोड से आगे सांगानेर तक सड़कों पर भी पदयात्रियों के रैले नजर आए।  रवानगी से पूर्व सुबह श्रद्धालुओं ने गोविंद देवजी मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद ताड़केश्वर मंदिर में धोक देकर डिग्गी कल्याणजी की राह पकड़ी। अलग-अलग मार्गों से पदयात्री वाहनों पर बज रहे भजनों की धुन पर नाचते हुए यहां पहुंचे। मुख्य ध्वज जैसे ही मंदिर के बाहर आया तो श्रद्धालुओं ने जयकारों से चौड़ा रास्ता को गंूजायमान कर दिया। पदयात्रा में कई श्रद्धालु कनक दंडवत करते हुए चल रहे थे।
चौड़ा रास्ता से पदयात्रियों का कारवां रामनिवास बाग, जेएलएन मार्ग होते हुए मोतीडूंगरी गणेश मंदिर पहुंचा। यहां श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। यहां से पदयात्री तख्तेशाही रोड होते हुए टोंक रोड पहुंचे। यहां से भक्तों का काफिला सीधा बढ़ता गया। कई गांवों के पदयात्री दोपहर तक आते रहे। उन्होंने में चौड़ा रास्ता स्थित ताड़केश्वर मंदिर में दर्शन किए और डिग्गी के लिए रवानगी ली। पदयात्रा में नंगे पांव डिग्गी जा रहे पदयात्रियों के कारण टोंक रोड मंगलवार को डिग्गी कल्याण धणी के भक्तों से अटा रहा। जगह-जगह लगे भंडारों में भक्ति और सेवा की जुगलबंदी दिखी। चौड़ा रास्ता से टोंक रोड पर सैकड़ों की संख्य में भंडारे लगाए गए। जहां खाने-पीने से लेकर चिकित्सा तथा पांव दबाने तक की सेवा में लोग उत्साह से जुटे थे।
सुबह से शाम तक टोंक रोड पर वाहन रेंग-रेंग कर चलते रहे। दोपहर बाद हुई बारिश ने पदयात्रियों का जोश बढ़ा दिया। पदयात्री डीजे की धुन पर बारिश में भीगते-नाचते गाते चल रहे थे। जगह-जगह पानी भरने से हालांकि पदयात्रियों को परेशानी भी हुई। मौसम को देखते हुए पदयात्री छाता, बरसाती, रैन कोट लेकर आए थे जिसका पहले दिन ही उपयोग हो गया।

No comments:

Post a Comment

Pages