मालिक बनकर किराये पर दे दी फैक्ट्री, न्याय के लिए पीडि़त ने कमिश्नर से लगाई गुहार - Pinkcity News

Breaking News

Thursday, 18 July 2019

मालिक बनकर किराये पर दे दी फैक्ट्री, न्याय के लिए पीडि़त ने कमिश्नर से लगाई गुहार

fraud crime logo के लिए इमेज परिणाम
जयपुर,18 जुलाई। शहर के सीतापुरा इंडस्ट्रीयल एरिया में मालिक बनकर फैक्ट्री को किराये पर देकर लाखों रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। इस संबंध में पीडि़त ने आरोपी के खिलाफ शिवदासपुरा पुलिस थाना में मामला दर्ज कराया है। पुलिस से भी न्याय नहीं मिलने से तंग आकर पीडि़त ने पुलिस कमिश्नर को शिकायत की है।
अहमदाबाद में प्लास्टिक दाने की फैक्ट्री के मालिक रोहित गोयल ने जयपुर में भी एक यूनिट लगाने के लिए 2239 रामचंद्रपुरा में मोहित कुंडलिया नामक व्यक्ति से संपर्क किया। आरोपी मोहित ने रामचंद्रपुरा की फैक्ट्री के करीब दो हजार स्वार्यर फीट हिस्से का मालिकाना हक बताते हुए रोहित गोयल को 27 हजार रुपए मासिक किराये पर दे दिया। पीडि़त को जब वास्तविकता का पता चला तो आरोपी ने उसे ही बर्बाद करने की धमकी दे डाली। आरोपी की धमकी के बाद पुलिस की चोखट पर पहुंचे पीडि़त को वहां भी न्याय नहीं मिला तो उसने उच्चाधिकारियों से गुहार लगाई है।
ये है पूरा मामला
170-सूर्यनगर तारों की कूंट टोंक रोड जयपुर के मूल निवासी रोहित गोयल ने सीतापुरा में फैक्ट्री लगाने के लिए अक्टूबर-2018 में राजापार्क, जयपुर निवासी मोहित कुंडलिया से संपर्क किया। मोहित ने 2239 रामचन्द्रपुरा, सीतापुरा इंडस्ट्रियल एरिया में करीब दो हजार स्कवायर फीट एरिया 27 हजार रुपए प्रतिमाह के हिसाब से किराये पर देने की बात की। पीडि़त ने आरोपी मोहित की बातों का भरोसा कर नवंबर-2018 से इस शेडनुमा भूमि पर प्लास्टिक दाने के लिए मशीने लगाने का कार्य शुरू कर दिया। इस दौरान पीडि़त ने विभिन्न विभागों से प्रमाण-पत्र लेने के लिए किरायानामे के लिए तकाजा किया तो आरोपी टाल-मटोल करता रहा। करीब छह माह तक आरोपी किराये व बिजली के बिल के रूप में पीडि़त से हजारों रुपए लेता रहा। बार-बार तकाजा करने के बाद भी जब पीडि़त को किरायानामा नहीं मिला तो उसने फैक्ट्री को खाली करने का मानस बना लिया। इस संबंध में पीडि़त ने आरोपी को दो माह पहले ही अवगत करा दिया कि वह अपनी फैक्ट्री को अन्य स्थान पर शिफ्ट करेगा। इस पर पीडि़त रोहित ने मोहित को बतौर गारंटी के रूप में दिए गए चेक व हिसाब करके बकाया राशि लौटाने का कहा तो आरोपी ने चेक बाउंस के झूठे मामले में फंसाने की धमकी दे डाली। साथ ही चेतावनी दी कि यदि पुलिस को शिकायत की तो वह पीडि़त व उसके परिवार को बर्बाद कर देगा। इसी विवाद के दौरान पीडि़त को पता चला कि आरोपी ने जिस भूमि    पर अपना मालिकाना हक बताकर उसे किराये पर दी थी वह दरअसल उसने  मनीषा डायमंड टूल्स से लीज पर ली हुई है।
पुलिस की भूमिका संदिग्ध
पीडि़त रोहित गोयल के मुताबिक मालिक बताकर हर माह 27 हजार रुपए किराया व बिजली का बिल वसूलने वाले मोहित की शिवदासपुरा पुलिस थाना में शिकायत दर्ज करायी। पुलिस ने परिवाद पर जांच के दौरान 11 जुलाई-2019 को दोनों पक्षों में समझौता करवाया जिसमें आरोपी ने चेक लौटाने व फैक्ट्री में पड़ा सामान व मशीनें ले जाने की सहमति प्रदान कर दी। इसके बाद मामले के जांच अधिकारी एसआई मुंशीलाल ने पीडि़त को फैक्ट्री में रखे करीब 30 लाख रुपए के सामान व मशीनों को अन्य जगह पर शिफ्ट करने का मौखिक आदेश दे दिया। जांच अधिकारी के भरोसे के बाद पीडि़त जब ट्रक लेकर फैक्ट्री पहुंचा तो आरोपी ने सामान लोडिंग होने पश्चात बाहर से ताला जड़ दिया और पीडि़त के कर्मचारियों को खदेड़ दिया। पुलिस की गैरमौजूदगी में हुए इस घटनाक्रम की शिकायत पीडि़त ने जांच अधिकारी को दी तो उसने व्यस्तता का बहाना बनाकर टाल दिया। पीडि़त रोहित के मुताबिक पिछले सात दिन से फैक्ट्री में सामान से लोडिंग गाडिय़ां खड़ी हैं, जिनका किराया चुकाना पड़ रहा है।
फैक्ट्री के लिए लिया डेढ़ करोड़ का ऋण
बकौल, रोहित गोयल-उसने जयपुर में फैक्ट्री लगाने के लिए डेढ़ करोड़ रुपए का ऋण लिया हुआ है। फैक्ट्री में करीब 21 लाख रुपए की लागत से क्रेशर, वाशिंग व प्लास्टिक दाना बनाने वाली मशीनें भी लगा दी हैं। किरायानामा नहीं बनने के कारण वह सरकारी विभागों से एनओसी व अन्य प्रकार के प्रमाण पत्र नहीं ले पाया है। रोजाना करीब 15 हजार रुपए का आर्थिक नुकसान हो रहा है। आरोपी को नवंबर-2018 से अपै्रल-2019 तक का किराया चेक के जरिए भुगतान कर चुका है। बिजली के बिल का भी भुगतान कर दिया है, मगर लेट पेनल्टी के नाम पर आरोपी पीडि़त से हजारों रुपए और मांग रहा है। तमाम भुगतान होने के बावजूद गारंटी के रूप में पीडि़त द्वारा दिए गए चेकों को एक साथ बैंक में लगाकर उन्हें बाउंस कर एनआई एक्ट के मामले में फंसाने व पूरे परिवार को बर्बाद करने की धमकी दे रहा है। पीडि़त ने शिवदासपुरा पुलिस थाना से न्याय नहीं मिलने की आशंका से पुलिस कमीश्नर से गुहार लगाई है।




No comments:

Post a comment

Pages