प्रदेश में शिक्षकों के 90 प्रतिशत पदों को भरने की हुई पहल - Pinkcity News

Breaking

Wednesday, 3 July 2019

प्रदेश में शिक्षकों के 90 प्रतिशत पदों को भरने की हुई पहल

सभी उत्कृष्ट विद्यालयों के लिए स्वीकृत किया शिक्षक का एक-एक पद
105 विद्यार्थी पर होगा अब एक शारीरिक शिक्षक, तृतीय भाषा अध्ययन हेतु पृथक से पद
शिक्षा मंत्री ने जारी किया प्री.डी.एल.एड. परीक्षा 2019 का परिणाम

जयपुर, 3 जुलाई। शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने बुधवार को प्री.डी.एल.एड. परीक्षा 2019 का परिणाम घोषित किया। परिणाम जारी करने के बाद उन्होंने बताया कि बीएसटीसी के नाम से जानी जाने वाली यह परीक्षा पूर्व में उच्च षिक्षा विभाग द्वारा कराए जाने की परिपाटी चली आ रही थी। पहली बार इसे पंजीयक षिक्षा विभागीय परीक्षाएं, बीकानेर द्वारा करवाए जाने की पहल की गयी है। उन्होंने कहा कि षिक्षा विभाग द्वारा स्वयं इसे करवाए जाने से जिस राषि की बचत हुई है, उसका उपयोग प्रदेष की डाईट्स को सुदृढ़ करने में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिला षिक्षक प्रषिक्षण संस्थानों को मजबूत करने के अंतर्गत वहां षिक्षकों के प्रषिक्षण की सभी प्रकार की सुविधाओं का विकास किया जाएगा।
शिक्षा मंत्री ने पूर्ण पारदर्षिता से विभाग द्वारा अपने स्तर पर संपन्न कदवाई गयी प्री.डी.एल.एड. परीक्षा में सभी सफल रहे अभ्यर्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने मौके पर ही इस परीक्षा में 80.47 प्रतिषत अंक प्राप्त कर सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने वाले प्रवीण कुमार को भी विषेष रूप से बधाई दी। उन्होंने बताया कि प्री.डी.एल.एड. परीक्षा 2019 राज्य के सभी 33 जिलों के 2212 परीक्षा केन्द्रों पर गत 26 मई को आयोजित की गयी थी। परीक्षा में 7 लाख 51 हजार 127 अभ्यर्थी पंजीकृत हुए और इनमें से 6 लाख 94 हजार 663 परीक्षार्थी उपस्थित हुए।
सभी उत्कृष्ट विद्यालयों में एक-एक शिक्षकों के पद दिए
षिक्षा मंत्री ने बताया कि पिछले छः माह में प्रदेष में षिक्षा क्षेत्र में बुनियादी सुधार के साथ ही विसंगतियों को पूरी तरह से दूर करने का प्रयास करने की विषेष पहल की गयी है। उन्होंने बताया कि 2016 के बाद प्रारंभिक षिक्षा का स्टाफिंग पैटर्न का जो बकाया चला आ रहा कार्य था उसे पूरा कर लिया गया है। राज्य में उत्कृष्ट विद्यालयों को वास्तविक रूप में उत्कृष्ट करने के प्रयास करते हुए उनमें एक-एक पद देने की पहल की गयी है।
105 विद्यार्थी पर होगा अब एक शारीरिक शिक्षक
डोटासरा ने बताया कि पूर्व में 120 विद्यार्थियोें पर एक शारीरिक षिक्षक लगाए जाने का प्रावधान था, इसे बदलकर राज्य सरकार ने छात्र हित में अब यह व्यवस्था की है कि जहां 105 विद्यार्थी हैं वहां पर भी एक शारीरिक षिक्षक लगाया जाएगा। उन्हांेने कहा कि राज्य सरकार की यह मंषा है कि प्रदेष में विद्यार्थियों का मानसिक एवं शारीरिक रूप में समान स्तर पर विकास हो।
तृतीय भाषा अध्ययन हेतु पृथक से पद
डोटासरा ने बताया कि प्रदेष में पहली बार कक्षा 6 से 8 में तृतीय भाषा का अध्ययन कराने के लिए राज्य सरकार ने पृथक से पद स्वीकृत किये हैं। विषेष षिक्षकों को भी जहां उनकी उपयोगिता हैं, वहीं पर पदस्थापित करने के निर्देष दिए गए हैं।
उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने यह भी तय किया है कि जहां पर 4 विषेष बच्चें अध्ययनरत हैं, वहां पर प्राथमिकता से एक विषेष षिक्षक लगाया जाएगा। इससे ऐसे बच्चे जो शारीरिक रूप से किसी स्तर पर अक्षम हैं, उनके लिए पढ़ाई की विषेष व्यवस्था सुनिष्चित की जा सकेगी।
8 हजार 200 शिक्षकों के पदों की वृद्धि
डोटासरा ने बताया कि प्रदेष में अल्प अवधि में ही राज्य सरकार ने 8 हजार 200 षिक्षकों के पदों की वृद्धि की है। इसी तरह 1100 शारीरिक षिक्षकों की वृद्धि की गयी है। उन्होंने बताया कि स्टाफिंग पैटर्न के अंतर्गत 4 हजार षिक्षकों के पदों की वास्तविक कैटगरी निर्धारित की गयी है। इसी तरह 4 हजार ही ऐसे षिक्षक अब हो गए हैं जिन्हें वास्तविक रूप में काउन्सिलंग से लगाने की राज्य सरकार ने पहल की है।
शिक्षकों के 90 प्रतिशत पदों को भरने की हुई पहल
शिक्षा मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने षिक्षकों के 90 प्रतिषत पदों को भर दिया है। प्रयास यह किया गया है कि षिक्षकों को उनके नजदीक के स्थानों पर ही लगाया जाए तथा उन्हें कम से कम परेषानी आए। उन्होंने स्पष्ट कहा कि राज्य सरकार षिक्षा में राजनीतिक स्तर पर किसी तरह की भेदभाव के खिलाफ है। वर्ष 2016 में 25 हजार षिक्षकों को इधर-उधर जाना पड़ा और अत्यधिक परेषानी का सामना करना पड़ा था। राज्य सरकार ने काउन्सिलंग से पूर्ण पारदर्षिता से जो प्रक्रिया अपनायी है उससे 60 से 70 प्रतिषत षिक्षकों को उनके स्थानों पर ही पदस्थापित किया गया है।

No comments:

Post a Comment

Pages