होण्डा ने भीलवाड़ा के स्कूली छात्रों के लिए आयोजित किया अपना सबसे बड़ा सड़क सुरक्षा जागरुकता अभियान - Pinkcity News

Breaking

Monday, 6 May 2019

होण्डा ने भीलवाड़ा के स्कूली छात्रों के लिए आयोजित किया अपना सबसे बड़ा सड़क सुरक्षा जागरुकता अभियान

अपनी तरह की इस अनूठी पहल के तहत विट्टी इंटरनेशनल स्कूल से 1600 से अधिक स्कूली छात्रों को होण्डा के साथ सड़क सुरक्षा का महत्व सीखने का मौका मिला 
 भीलवाड़ा, 6 मई, 2019 ।   आने वाले कल को सुरक्षित बनाने के लिए युवा छात्रों को सड़क सुरक्षा के बारे में जागरुक बनाना बेहद महत्वपूर्ण है, इसी विश्वास के साथ होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इण्डिया प्रा लिमिटेड ने पहली बार भीलवाड़ा में अपने सड़क सुरक्षा जागरुकता सामाजिक अभियान का आयोजन किया। 
भीलवाड़ा में इस दिशा में पहला कदम बढ़ाते हुए होण्डा ने विट्टी इंटरनेशनल स्कूल के 1600 से अधिक छात्रों को सड़क सुरक्षा के महत्व पर जागरुक बनाया, होण्डा के इस राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा जागरुकता शिविर के तहत 4 साल की उम्र के बच्चों को भी सड़क सुरक्षा पर प्रश्क्षिित किया गया। 
देश भर के युवा स्कूली छात्रों को सुरक्षित राइडिंग के बारे में जागरुक बनाने के लिए होण्डा ने जनवरी 2019 में अपने सबसे बड़े राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा जागरुकता अभियान की शुरूआत की। होण्डा हर महीने देश के 10 स्कूलों से 15,000 से अधिक छात्रों को सड़क सुरक्षा के बारे में जागरुक बना रही है। होण्डा की यह कोरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व पहल 23 शहरों के 46,000 से अधिक स्कूली छात्रों को पहले से शिक्षित कर चुकी है। और, अब होण्डा की यह पहल भीलवाड़ा पहुंच गई है।
 सड़क सुरक्षा जागरुकता तथा स्कूली छात्रों को सड़क सुरक्षा पर शिक्षित करने के महत्व पर बात करते हुए प्रभु नागराज-वाईस प्रेज़ीडेन्ट, ब्राण्ड एण्ड कम्युनिकेशन, होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इण्डिया प्रा लिमिटेड ने कहा,  ‘‘सड़क सुरक्षा होण्डा के कोरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व का मुख्य स्तंभ है। आज के ये छात्र, जो आज सड़क का इस्तेमाल करते हैं, आने वाले समय में वे दोपहिया राइडर होंगे। होण्डा का राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा जागरुकता अभियान मात्र 4 साल की उम्र से स्कूली छात्रों को सड़क सुरक्षा पर जागरुक बनाता है। भीलवाड़ा में 1600 से अधिक छात्र होण्डा के साथ सुरक्षा की शपथरुज्ीमैंमिजलच्तवउपेम ले चुके हैं। एक ज़िम्मेदार कोरपोरेट होने के नाते, होण्डा अपनी इस पहल को देश के अन्य शहरों में भी विस्तारित करेगी।’’ 
दोपहिया वाहन बेचने के अलावा होण्डा हर किसी के लिए सुरक्षा के महत्व को समझती है, और यह न केवल दोपहिया वाहन चालकों, बल्कि सड़क का इस्तेमाल करने वाले हर व्यक्ति की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है- फिर चाहे वे किसी भी उम्र के पैदल यात्री हों, वाहन चालक या वाहन की पिछली सीट पर सवारी करने वाले पिलियन राइडर।
 सड़क सुरक्षा के गंभीर मुद्दे पर छात्रों को रोचक तरीकों से जानकारी देने के लिए होण्डा ने विभिन्न आयु वर्गों के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन कियाः
इंटरैक्टिव सेशनः होण्डा के विशेष रूप से प्रशिक्षित सड़क सुरक्षा इंस्ट्रक्टर्स ने छात्रों को बताया कि उन्हें स्कूल बस में और साइकल चलाते समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं।
प्रैक्टिकल लर्निंगः 9-12 साल के बच्चों को सिखाया गया कि साइकल चलाते समय कैसे सुरक्षा का ध्यान रखें, दोपहिया वाहन के पीछे बैठकर सवारी करते समय किस तरह सुरक्षा बरतें, साथ ही उन्हें सड़क पर सुरक्षा गियर का महत्व भी बताय गया। इस लर्निंग को अधिक रोचक और व्यवहारिक बनाने के लिए छात्रों को विशेष रूप से आयात की गई सीआरएफ 50 मोटरसाइकलों पर व्यवहारिक प्रशिक्षण दिया गया।
 साइन्टिफिक थ्योरी लर्निंग मॉड्यूलः 13-17 साल के बच्चों एवं अध्यापकों के लिए सेफ्टी राइडिंग थ्योरी सत्र आयोजित किए गए।
स्पेशल राइडर टेªनिंग गतिविधिः 16 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए होण्डा के प्रशिक्षित सुरक्षा इंस्ट्रक्टर्स के मार्गदर्शन में विशेष राइडर टेªनिंग गतिविधि का आयोजन किया गया।
लर्निंग बनी रोचकः होण्डा ने रोज़ाना कई रोचक शैक्षणिक गतिविधियों जैसे सुरक्षा क्विज़ और गेम्स आदि का आयोजन किया ताकि स्कूली छात्र रोचक तरीकों से सुरक्षित राइडिंग के गुर सीख सकें। 4 से 5 साल के बच्चों को तस्वीरों और कॉमिक्स के ज़रिए जानकारी दी गई कि उन्हें सड़क पर क्या करना चाहिए और क्या नहीं।
सड़क सुरक्षा के लिए होण्डा की सीएसआर प्रतिबद्धताः
होण्डा दुनिया भर में सड़क सुरक्षा को प्राथमिकता देती है। अपने कोरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत भारत में होण्डा 2001 में अपनी शुरूआत से सड़क सुरक्षा को बढ़ावा दे रही है और 25 लाख से ज़्यादा भारतीयों को सड़क सुरक्षा पर जागरुक बना चुकी है। इसकी सीएसआर प्रतिबद्धता के तहत होण्डा का सुरक्षित राइडिंग एवं टेªेनिंग प्रोग्राम रोज़ाना इसके 14 टैªफिक पाकों में आयोजित किया जाता है जो दिल्ली ’ 2, चण्डीगढ़, जयपुर, लुधियाना, भुवनेश्वर, कटक, येओला, हैदराबाद, चेन्नई, कोयम्बटूर, त्रिची, करनाल और थाणे में हैं।  

No comments:

Post a Comment

Pages