लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद प्रदेश में सियासी उथल-पुथल देखने को मिलेगी: वासुदेव देवनानी - Pinkcity News

Breaking

Friday, 3 May 2019

लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद प्रदेश में सियासी उथल-पुथल देखने को मिलेगी: वासुदेव देवनानी

पुत्र की हार के आभास के चलते अनर्गल  बयानबाजी में जुटे हैं गहलोत : वासुदेव देवनानी
जयपुर, 03 मई 2019। पूर्व शिक्षा मंत्री एवं विधायक वासुदेव देवनानी ने भाजपा प्रदेश कार्यालय, जयपुर में प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में लोकसभा चुनाव का परिणाम कांग्रेस के लिए एक झटका देने वाला परिणाम साबित होगा। लोकसभा चुनाव के परिणाम के बाद प्रदेश में सियासी उथल-पुथल भी देखने को मिलेगी। प्रदेश की सभी सीटों पर भाजपा ऐतिहासिक जीत दर्ज करेगी और कांग्रेस का खाता भी नहीं खुलेगा।
उन्होंने कहा कि जोधपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत चुनाव हार रहे है और इसी हताशा व निराशा के चलते गहलोत अनर्गल बयानबाजी करने में जुटे हुए है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राष्ट्रवादी, सामाजिक व सांस्कृतिक संगठन है तथा राष्ट्रहित में कार्य करता है। कांग्रेस सत्ता के बिना छटपटाने लगती है। कांग्रेस के सत्ता का चस्का लगा हुआ है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की सच्चाई पर सवाल उठा रहे है। जबकि पूरा देश मोदी जी की सत्यनिष्ठा से भलीभाँति परिचित है।

देवनानी ने कहा कि
प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने के बाद कानून का शासन समाप्त हो गया तथा कांग्रेस का जंगल राज प्रारम्भ हो गया। प्रदेश के सभी क्षेत्रों में अपराधियों के हौंसले बुलन्द है, आमजन में भय और अपराधियों में विश्वास बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री गहलोत के गृह जिले में धर्मपरिवर्तन जैसे मामले सामने आ रहे है। एक 12 साल के बच्चे का जबरन धर्मपरिवर्तन कराया गया है और चुनाव में पूरा जिला प्रशासन सरकार के दबाव में काम कर रहा है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के शासन में राजस्थान में को बंगाल बनाने में जुटे हुए है। रामनवमी के अवसर पर श्रद्धालुओं पर सुनियोजित ढंग से पथराव हुआ और अनेक स्थानों पर रामनवमी की शोभायात्रा निकालने की प्रशासन ने अनुमति नहीं दी। देवनानी ने कहा कि 2014 का चुनाव भ्रष्टाचार और महंगाई को लेकर लड़ा गया था। इन दोनों मुद्दों पर मोदी सरकार ने पूरी तरह से अंकुश लगाया एवं इस चुनाव में भ्रष्टाचार एवं महंगाई मुद्दा ना होकर राष्ट्रवाद तथा राष्ट्र की सुरक्षा ही मुद्दा है।
उन्होंने कहा कि भारत की कूटनीतिक ताकत के चलते मसूद अजहर को अन्तर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित किया गया। जिसकी सभी ने प्रशंसा की, लेकिन कांग्रेस ने आतंक के खिलाफ एक शब्द नहीं कहा। कांग्रेस राष्ट्रहित में बोलने से कतराती है। इससे स्पष्ट होता हैं कि कांग्रेस के मन में कुछ और छिपा हुआ है।
देवनानी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को जन्मदिन की शुभकामना देते हुए कहा कि गहलोत को प्रधानमंत्री पद का सम्मान करना चाहिए तथा मुख्यमंत्री पद की गरिमा बनाये रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी को उनके गठबन्धन का कोई भी घटक प्रधानमंत्री मानने को तैयार नहीं है। कांग्रेस पार्टी इस लोकसभा चुनाव में दो अंकों में ही सिमटेगी। इस समय देश में राष्ट्रवाद की लहर चल रही है। देश को मजबूर नहीं, मजबूत सरकार चाहिए।

No comments:

Post a Comment

Pages