सस्ती एवं सुरक्षित परिवहन सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 15 दिन में बनेगी प्रीपेड टेक्सी पाॅलिसी : परिवहन मंत्री - Pinkcity News

Breaking News

Friday, 31 May 2019

सस्ती एवं सुरक्षित परिवहन सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 15 दिन में बनेगी प्रीपेड टेक्सी पाॅलिसी : परिवहन मंत्री

-विभिन्न जिलों में आवश्यकतानुसार प्रीपेड टेक्सी बूथों की संख्या बढेगी
- परिवहन विभाग, यातायात पुलिस के नियंत्रण में विभिन्न टैक्सी यूनियनों के सहयोग से होगा प्रीपेड टेक्सी बूथों का संचालन

जयपुर, 31 मई। प्रदेश में आम जन एवं पर्यटकों को सस्ती एवं सुरक्षित परिवहन सुविधा प्रदान करने के लिए 15 दिवस में राज्य स्तरीय प्रीपेड टैक्सी पाॅलिसी लाई जाएगी। इसके साथ ही विभिन्न जिलों में प्रीपेड टैक्सी बूथों की संख्या में भी बढोतरी की जाएगी।
परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने शुक्रवार को शासन सचिवालय मंे इस सम्बन्ध में पुलिस एवं परिवहन विभाग के अधिकारियों एवं प्रीपेड टेक्सी संचालक यूनियन के प्रतिनिधियांे से वार्ता के बाद मीडिया से बात करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रीपेड बूथ से पर्ची कटाकर यात्रा करने में यात्री को सुरक्षा का अनुभव होगा क्योंकि पुलिस एवं परिवहन विभाग के पास हर यात्री का डेटा रहेगा। इसलिए इन बूथों को परिवहन विभाग एवं पुलिस की निगरानी में प्रारम्भ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राजस्थान एक पर्यटक मित्र राज्य है जहां हर वर्ष बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। प्रीपेड बूथों के संचालन से उन्हें भी सुविधा मिलेगी। अब से पहले जयपुर में 1996 में रेलवे स्टेशन, सिंधीकैम्प, नारायण सिंह सर्किल, हवाई अड्डे जैसी जगहों पर 7 प्रीपेड टेक्सी बूथों से यह सुविधा प्रारभ्भ की गई थी लेकिन न तो इसके नियम बनाए गए थे और न इस सुविधा को नियमित रूप से चलाया गया। उन्होंने बताया कि नई पाॅलिसी 15-20 दिन में लागू कर दी जाएगीं। इसके लिए परिवहन अधिकारियेां को निर्देश दे दिए गए हैं। इन बूथों पर संग्रहित राशि को सोसायटी बनाकर बूथ पर सुविधाओं एवं वाहन चालकों के कल्याण के लिए खर्च किया जा सकेगा। पूर्व में संचालित बूथों पर संग्रहित करीब 64 लाख रुपए का भी इस प्रकार उपयोग हो सकेगा।
पत्रकारों के सवाल के जवाब में खाचरियावास ने कहा कि बिना पाॅलिसी के प्रीपेड टेक्सी बूथ संचालन को रोकने के लोकायुक्त के एक फैसले के बाद पुलिस द्वारा जयपुर में संचालित बूथों कों बंद कर दिया गया है। नई पाॅलिसी के बाद इन्हें भी प्रारम्भ कर दिया जाएगा। विभिन्न जिलों में रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डों, बस स्टैण्डों, मुख्य बाजारों, पर्यटक स्थलों एवं प्रमुख स्थलों पर भी प्रीपेड टेक्सी बूथ खोले जाएंगे।
श्री खाचरियवास ने कहा कि पहले से रेट लिस्ट निर्धारित होने के कारण यात्री को पता रहेगा कि उसे यात्रा के लिए कितना भुगतान करना है, इससे उसके ठगे जाने की आशंका खत्म हो जाएगी। इन रेटों के बारे में सभी को जानकारी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि सरकार रोडवेज की स्थिति में सुधार के लिए भी हर संभव प्रयास करने के लिए संकल्पबद्ध है। इसमें कर्मचारी कल्याण के साथ नई बसों की खरीद  भी शामिल है। इसके प्रस्ताव तैयार किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि रोडवेज पर नए भवन का निर्माण अंतिम चरण में है और आगामी माह में इसका उद्धाटन किए जाने की संभावना है।
उन्होंने कहा प्रदेश में आॅटोमेटेड ड्राइविंग टेªक की योजना को जिस रूप में लागू किया जाना प्रस्तावित किया गया था उससे वे सहमत नहीं हैं। लाइसेंस जनसामान्य को प्रदान की जाने वाली एक सुविधा है जिसकी फीस इतनी नहीं होनी चाहिए कि एक गरीब आदमी के बूते से ही बाहर हो जाए। हर लाइसेंस के लिए जांच के नाम पर 300 रूपए निजी कम्पनी द्वारा वसूल किए जाना किसी हाल में उचित नहीं है। इसलिए वे पूरी योजना की समीक्षा करेंगे और यदि किसी स्तर पर भ्रष्टाचार पाया गया तो एक्शन लिया जाएगा। प्रीपेड़ टेक्सी से सम्बन्धित बैठक में परिवहन आयुक्त एवं शासन सचिव श्री राजेश यादव, डीसीपी टेªफिक श्री राहुल प्रकाश, आरटीओ जयपुर श्री राजेन्द्र कुमार वर्मा, अन्य अधिकारी एवं प्रीपेड आॅटो यूनियन के प्रतिनिधि शामिल हुए।

No comments:

Post a comment

Pages