जयपुर की संस्था द्वारा लंदन की ब्रिटिश पार्लियामेंट में देश - विदेश की प्रतिभाओं को सम्मानित करना अपने आप में गौरव:- प्रतिभा देवी पाटील - Pinkcity News

Breaking

Monday, 22 April 2019

जयपुर की संस्था द्वारा लंदन की ब्रिटिश पार्लियामेंट में देश - विदेश की प्रतिभाओं को सम्मानित करना अपने आप में गौरव:- प्रतिभा देवी पाटील

  •  भारत गौरव के ब्रोशर का हुआ विमोचन


जयपुर 22 अप्रैल। लंदन की ब्रिटिश पार्लियामेंट में जयपुर की संस्कृति युवा संस्था द्वारा लगातार देश व दुनिया में बसे व भारत का नाम रोशन करने वाली भारतीयों को ‘‘भारत गौरव’’ के अलंकरण से सम्मानित करना और प्रतिभाओं को विश्व पटल पर लाना एक बडा कार्य है, ये विचार राजभवन में देश की पूर्व राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटील ने भारत गौरव के ब्रोशर के विमोचन करने के बाद कहे।
इस अवसर पर संस्कृति युवा संस्था के अध्यक्ष सुरेश मिश्रा ने बताया कि आगामी 19 जुलाई को लंदन की ब्रिटिश पार्लियामेंट में 7वां भारत गौरव सम्मान समारोह आयोजित किया जायेगा। इस सम्मान समारोह में लगभग 15 देषों के भारतीय हिस्सा लेगें। मिश्रा ने बताया कि ये सम्मान समारोह वर्ष 2012 से अनवरत चल रहा है । इससे पूर्व के वर्षो में भी अमेरिका में यूनाइटेड नेशन में और लंदन की ब्रिटिश पार्लियामेंट में यह सम्मान समारोह आयोजित हो चुका है। पूर्व के वर्षो में आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर, फिल्म स्टार मनोज कुमार, नोबल प्राईज विजेता कैलाश सत्यार्थी, इन्द्रा नूई, डाॅ. लोकेश मुनी सहित लगभग 200 अप्रवासी भारतीयों को ‘‘भारत गौरव’’ के अलंकरण सेविभूषित किया जा चुका है।
संस्कृति युवा संस्था के संरक्षक  वरिष्ठ अधिवक्ता एच.सी. गणेशिया ने कहा कि संस्था ने इस वर्ष से यह भी निर्णय लिया है कि जिन प्रतिभाओं ने पुरे विश्व में अपनी योग्यता के बल पर पुरे विष्व पटल पर देश का नाम गौरव किया है उन्हें देश की माटी से जोडे रखने के लिये कुछ ऐसे कार्यक्रम हाथ में लिये जायेगें जिनके माध्यम से उनका जुडाव बना रहें ।
ब्रोशर के विमोचन समारोह में संस्कृति युवा संस्था के संरक्षक एवं वरिष्ठ अधिवक्ता एच.सी. गणेशिया, संस्था की कार्यकारी अध्यक्ष एडवोकेट चीत्रा गोयल, उपाध्यक्ष दिनेश शर्मा, संयुक्त निदेशक पीआर गोविन्द पारीक, महासचिव सुनिल कुमार जैन,राजेन्द्र सिंह पचार और श्रीमती मिथलेष शर्मा उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Pages