सरस निकुंज में सहजो बाई चरित्र पांच से, हित अम्बरीश करेंगे प्रवचन - Pinkcity News

Breaking News

Wednesday, 3 April 2019

सरस निकुंज में सहजो बाई चरित्र पांच से, हित अम्बरीश करेंगे प्रवचन

जयपुर। पानो का दरीबा स्थित सरस निकुंज में शुक संप्रदाय पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण महाराज के सान्निध्य में पांच से सात अप्रेल तक सहजो बाई चरित्र पर प्रकाश डाला जाएगा। हित अंबरीश दो से शाम पांच बजे तक  प्रवचन करेंगे। इसके साथ गुरु महिमा पर भी बखान होगा। प्रवीण बड़े भैया ने बताया कि प्रसिद्ध संत कवि चरणदास की शिष्या भक्तिमती सहजोबाई का जन्म 25 जुलाई 1725 ई. को दिल्ली के परीक्षितपुर नामक स्थान में हुआ था। इनके पिता का नाम हरिप्रसाद और माता का नाम अनूपी देवी था। ग्यारह वर्ष की आयु में सहजो बाई के विवाह के समय एक दुर्घटना में वर का देहांत हो गया। उसके बाद उन्होंने संत चरणदास का शिष्यत्व स्वीकार कर लिया और आजीवन ब्रह्मचारिणी रहीं। सहजो बाई चरणदास की प्रथम शिष्या थीं। इन्होंने अपने गुरु से ज्ञान, भक्ति और योग की विद्या प्राप्त की।
            कवयित्री और साधिका सहजोबाई के जीवन काल में ही उनके साहित्य का प्रचार-प्रसार देश के विभिन्न क्षेत्रों, दिल्ली, राजस्थान, बुंदेलखंड और बिहार में हो चुका था। इनके द्वारा लिखित एकमात्र ग्रंथ 'सहज प्रकाश' का प्रकाशन सन् 1920 में हुआ तथा इसका अंग्रेजी अनुवाद 1931 में प्रकाशित हुआ। सहजो बाई की रचनाओं में प्रगाढ़ गुरु भक्ति, संसार की ओर से पूर्ण विरक्ति, साधुता, मानव जीवन, प्रेम, सगुण-निर्गुण भक्ति, नाम स्मरण आदि विषयक छंद, दोहे और कुंडलियां संकलित हैं। सहजो बाई ने हरि से श्रेष्ठ गुरु को माना है। 

No comments:

Post a comment

Pages