जयपुरिया इंस्टीट्यूट में 174 स्टूडेंट्स को प्रदान की गई एआईसीटीई अप्रूव्ड पीजीडीएम डिग्री - Pinkcity News

Breaking

Monday, 22 April 2019

जयपुरिया इंस्टीट्यूट में 174 स्टूडेंट्स को प्रदान की गई एआईसीटीई अप्रूव्ड पीजीडीएम डिग्री

जयपुरिया, जयपुर के 12 वें बैच का दीक्षांत समारोह आयोजित

जयपुर, 20 अप्रेल। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, जयपुर में आज आयोजित दीक्षांत समारोह में ग्रुप प्रेसीडेंट (एचआर एंड कॉरपोरेट सर्विसेज) व सीईओ (आफ्टर-मार्केट सेक्टर) तथा महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड के ग्रुप एग्जीक्यूटिव बोर्ड के सदस्य राजीव दुबे ने कहा कि ‘आप विनम्र मत बनो, जितने आप महान नहीं हो।‘ यह जयपुरिया, जयपुर के स्नातक पीजीडीएम बैच 2017-19 के लिए आयोजित किया गया 12 वां दीक्षांत समारोह था। दुबे इस समारोह के मुख्य अतिथि थे। इस अवसर पर अतिथियों के तौर पर जयपुरिया ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के चेयरमेन शरद जयपुरिया, ग्रुप के वाइस चेयरमेन श्रीवत्स जयपुरिया और जयपुरिया, जयपुर के निदेषक डॉ. प्रभात पंकज भी उपस्थित थे।
चेयरमेन ने यहां उपस्थित अतिथियों, स्टूडेंट्स व पैरेंट्स को जयपुरिया ग्रुप के सफर की जानकारी दी। उन्होंने स्टूडेंट्स को उनके सफर में आने वाले विभिन्न अवसरों का लाभ उठाने की सलाह देते हुए कहा कि ये आपको गतिशील बनाए रखेंगे और निरंतर सीख देंगे। उन्होंने हमेषा ज्ञान प्राप्त करने की चाह रखने की सलाह दी।
राजीव दुबे ने सभी स्नातक छात्रों को मैनेजमेंट में सफलतापूर्वक पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा पूर्ण करने के लिए बधाई दी। उन्होंने वी.यू.सी.ए. (वॉलेटिलिटी, अनसर्टेनिटी, कॉम्प्लेक्सिटी और एम्बिगुटी) के इस नवीन दौर में सफल होने के लिए 3$5  फ्रेमवर्क के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि परफॉर्मेंस, केयर और कोर वैल्यूज हमेषा एक साथ चलते हैं। उन्होंने स्टूडेंट्स को प्रेरित करते हुए कहा कि आप अपनी पूरी ताकत औ सपनों के साथ जीवन के उतार-चढ़ाव का सामना करें। उन्होंने सपनों की ताकत का अहसास कराने के लिए महात्मा गांधी के ‘करो या मरो‘ के कथन को दोहराया। स्टूडेंट्स को उन्होंने यह भी सलाह दी कि सकारात्मक बदलाव लाने के लिए वे किसी भी सीमा को स्वीकार न करें और वैकल्पिक सोच का उपयोग करें। उन्होंने वर्तमान संस्थानों के 5 व्यवहारों को महत्वपूर्ण बताया और स्टूडेंट्स को अपने जीवन को सरल बनाने और प्रगति के साथ आगे बढ़ने की सलाह भी दी।
डॉ. प्रभात पंकज ने भविष्य के लीडर्स को प्रेरित किया और जयपुरिया के लर्निंग मॉडल की बात की, जो चार स्तंभों- इंडस्ट्री कनेक्ट, लर्निंग एनवायरमेंट, लर्निंग बियॉन्ड क्लासरूम्स और ग्लोबल एक्सपोजर पर आधारित है। उन्होंने इंस्टीट्यूट की वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए बताया कि इंस्टीट्यूट को वर्ष 2017-18 एवं 2018-19 के लिए लगातार टॉप 75 बी-स्कूलों में स्थान प्रदान किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि जयपुरिया को ‘ग्रेट प्लेस टू वर्क‘ की मान्यता भी दी गई है।
वाइस चेयरमेन श्रीवत्स जयपुरिया ने सम्मानित अतिथियों व टीचर्स का धन्यवाद ज्ञापित किया और यहां के पूर्व छात्रों और निदेशक का भी आभार व्यक्त किया। उन्होंने छात्रों को बड़े सपने देखने और अपने सपनों को वास्तविकता में बदलने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित किया।
इस अवसर पर कड़ी मेहनत व ईमानदारीपूवर्क कार्य करने की सराहना के तौर पर विभिन्न पुरस्कार भी दिए गए। शिवांगी बघेल को चेयरमेन्ज गोल्ड मैडल से सम्मानित किया गया, अदिति कटारिया को वाइस-चेयरमेन्ज सिल्वर मैडल और मिशिता सिंघल को डायरेक्टर्ज ब्रॉंज मैडल से सम्मानित किया गया।
डिसिप्लिन टॉपर्स की श्रेणियों के पुरस्कार भी प्रदान किए गए, जिनमें डिसिप्लिन टॉपर्स इन मार्केटिंग का पुरस्कार शीतल खंडेलवाल और अदिति कटारिया को, डिसिप्लिन टॉपर्स इन फाइनेंस का पुरस्कार आयुषी ओसवाल व नेहा पारीक को, डिसिप्लिन टॉपर्स इन एचआर मैनेजमेंट का पुरस्कार मिशिता सिंघल को और डिसिप्लिन टॉपर्स इन आईटी एंड ऑपरेषंस का पुरस्कार आकांक्षा जैन को दिया गया।
इनके अलावा क्वालिटी टीचिंग तथा स्टूडेंट्स के डवलपमेंट के लिए सकारात्मक माहौल बनाने के लिए डॉ. प्रशांत शर्मा को ‘बेस्ट फैकल्टी अवॉर्ड‘ दिया गया। बिजनेस एंड एंटरप्रिन्योरषिप श्रेणी में ‘बेस्ट एलुमनी अवॉर्ड‘ रोहन झा को तथा सर्विस श्रेणी का ‘बेस्ट एलुमनी अवॉर्ड‘ रितेश जैन को प्रदान किया गया।
समारोह के दौरान कुल 174 स्टूडेंट्स को एआईसीटीई अप्रूव्ड पीजीडीएम डिग्री प्रदान की गई। डेलॉइट, अमेजॅन, महिंद्रा फाइनेंस, आईटीसी, एशियन पेंट्स जैसे संस्थानों में सफलतापूर्वक कार्य कर रहे यहां के पूर्व स्टूडेंट्स ने इंस्टीट्यूट द्वारा प्रदान किए जा रहे सहयोग व मार्गदर्शन पर खुषी जाहिर की।

No comments:

Post a Comment

Pages