पूर्णिमा इंस्टीट्यूट में 'तीसरा मचान' नाटक का मंचन - Pinkcity News

Breaking News

Saturday, 16 March 2019

पूर्णिमा इंस्टीट्यूट में 'तीसरा मचान' नाटक का मंचन

नाटक के जरिए किया गया सशक्त व आत्मनिर्भर महिलाओं के बदलाव का चित्रण

जयपुर, 16 मार्च। पुरातन युग में महिलाएं काफी सक्षम थीं, बंधनमुक्त जीवन जीते हुए वे अपने फैसले खुद लेती थीं। पूर्णिमा इंस्टीट्यूट आॅफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में शनिवार को मंचित किए गए नाटक 'तीसरा मचान' के जरिए यह दर्शाया गया। डॉ. राघव प्रकाश द्वारा लिखित यह नाटक कथा टेलर्स की ओर से तथा भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के सहयोग से प्रस्तुत किया गया।

महमूद अली के निर्देशन व शैल जोशी के सह निर्देशन में प्रस्तुत इस नाटक में पाषाण युग का चित्रण कर स्त्री की शक्तियों को दर्शाया गया। इसमें बताया गया कि उस दौर में महिलाओं और पुरूषों के कबीले व गुफाएं अलग—अलग थे और औरतों के कबीले की सरदार भी एक औरत ही थी। वे इतनी मजबूत थीं कि अपना पेट भरने के लिए औरतें शिकार भी स्वयं करती थी।

इस नाटक के जरिए बताया गया कि एक मर्द किस प्रकार एक कबीले की सरदार स्त्री को उसकी कोमलता व सुदरता का अहसास कराकर उसे चारदीवारी में रहने को मजबूर कर देता है। यह उस मर्द की साजिश होती है, जिससे वह उसके कबीले पर शासन करने में कामयाब हो जाता है। देखते ही देखते मानव समाज में महिलाओं की स्थिति पूरी तरह से बदल जाती है और वे शिकार व अन्य मुश्किल काम करने में अक्षम बन जाती हैं। हालांकि महिलाओं को बाद में अपनी इस स्थिति पर पछतावा भी होता है।

नाटक के कलाकारों में जसप्रीत कौर, मंजरी सक्सेना, सुनीता बर्मन, प्रतिष्ठा दत्त शर्मा, याशिका विजय, मोईन खान और गुंजन सैनी शामिल थे।

No comments:

Post a comment

Pages