छठी स्व.बद्रीनारायण स्मृति संगीत सभा में छलका कई रागों का लालित्य - Pinkcity News

Breaking News

Wednesday, 27 March 2019

छठी स्व.बद्रीनारायण स्मृति संगीत सभा में छलका कई रागों का लालित्य

जयपुर, 27 मार्च । संगीत  आश्रम संस्थान की ओर से संस्थान के ऑडिटोरियम में बुधवार को संजोई छठी स्व.बद्रीनारायण स्मृति संगीत सभा में अनेक कलाकारों ने सुर, लय और ताल में कई रागों का लालित्य छलकाया। । कार्यक्रम में दौरान राग देस, दरबारी,यमन,  भूपाली, बागेश्री, वृंदावनी सारंग और तोड़ी समेत कई रागों की छोटा-बड़ा ख्याल की बंदिशों ने शास्त्रीय संगीत के माधुर्य का रस छलका दिया।  इससे पहले स्व.बद्रीनारायण के चित्र के समक्ष संस्थान के सचिव  अमित अनुपम समेत अनेक कलाकारों ने पुष्प अर्पित किए।
मेहा ने बन-बन डार-डार...
कार्यक्रम की शुरुआत में गरिमा, केशवी, धु्रवी और सारा ने तीन ताल में निबद्ध राग देस के छोटा ख्याल की बंदिश  मेहा ने बन-बन डार-डार... की सलोनी प्रस्तुति दी। इसके बाद इसके बाद कलाकार यश सोनी ने बांसुरी पर राग यमन के सुर सजाए।  संध्या असवाल ने राग दरबारी में रचना घर जाने दे छाड़ मोरी बैयां..., साधना रावल ने मध्य लय तीन ताल में राग भूपाली की बंदिश जाऊं तोरे चरण कमल पर..., कलाकार दिशा चटोपाध्याय व  प्रियंका शर्मा ने राग बागेश्री की बंदिश  कौन करत तोरी विनती... समेत लोकेश सिंह तंवर ने राग वृंदावनी सारंग में पिरोई बंदिश  वन वन ढूंढऩ जाऊं... को पूरी तन्मयता से पेश कर प्रश्ंासा पाई। कार्यक्रम में कलाकार शिल्पा जसूजा ने राग नायकी कान्हड़ा, अंजना गुप्ता ने राग मारु विहाग, अलिशा जॉर्ज ने राग काफी, नीता गौड़ ने राग तोड़ी की बंदिशें पेश की। गर्विता मंगल, अनुश्री, योगेन्द्र सिंह ने भी सुर साधे। तबले पर इदरिस खान, हारमोनियम दौलत सिंह व हरीश नागौरी ने प्रभावी संगत की। संचालन बीना अनुपम ने किया। अंत में संस्थान सचिव अमित अनुपम ने सभी आगन्तुकों का आभार जताया।

No comments:

Post a comment

Pages