जेकेके का शिल्पग्राम बना नॉर्थ ईस्ट का क्राफ्ट बाजार - Pinkcity News

Breaking News

Thursday, 28 March 2019

जेकेके का शिल्पग्राम बना नॉर्थ ईस्ट का क्राफ्ट बाजार

जयपुर, 28 मार्च: केन और बैंबू से बने नॉर्थ ईस्ट के ट्रेडिशनल एवं कलरफुल हैंडीक्राफ्ट से यदि घर सुसज्जित हो तो यह सभी को ताजगी के साथ-साथ बेहद पसंद आता है। ये प्रोडक्टस् किफायती होने के अतिरिक्त ईजी टू हैंडल भी हैं। ‘ऑक्टेव 2019‘ के तहत जवाहर कला केन्द्र (जेकेके) के शिल्पग्राम में लगाये जा रहे नॉर्थ ईस्ट का क्राफ्ट बाजार बड़ी संख्या में जयपुरवासियों को आकर्षित कर रहा है। यहां एक ही स्थान पर नॉर्थ-ईस्ट के 8 राज्यों - असम, त्रिपुरा, नागालैण्ड, अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम एवं सिक्किम के हैंडीक्राफ्ट एवं हैण्डलूम प्रोडक्टस् उपलब्ध है। लोग यहां से अपने घरों के लिये डेकोरेटिव आइटम्स के अतिरिक्त केन एवं बैम्बू के फर्नीचर और हैण्डलूम से बने परिधान जैसे रोजमर्रा के प्रोडक्टस् भी खरीद रहे है।
यहां 60 शिल्पकारों द्वारा लगभग 30 स्टॉल लगाए गयेे हैं। डेकोरेटिव आईटम्स में यहां ड्राय फ्लॉवर्स, जूट से बने सजावटी एवं दैनिक उपयोग के प्रोडक्टस्, बांस एवं केन से बने प्रोडक्टस् के अतिरिक्त पारम्परिक तौर पर पहने जाने वाली आर्टिफिशियल ज्वैलरी भी बिक्री के लिए उपलब्ध है। यह एग्जीबिशन फेस्टिवल की अवधि में प्रतिदिन दोपहर 3 बजे आरम्भ होती है।

 प्रदर्शनी में भाग लेने आई नागालैण्ड की अपोंग फोम के अनुसार उनकी स्टॉल पर कॉर्न लीफ एवं वुड का उपयोग कर बनाये हुए डेकोरेटिव फ्लॉवर्स को लोग बेहद पसंद कर रहें है। उनकी रेंज 250 से 500 रूपयांे के मध्य है जो कि बेहद किफायती है। इसी प्रकार मेघालय के निमस बेमोन के पाईन के ड्राय फ्लॉवर्स के अतिरिक्त, सीड एवं केन का उपयोग कर बनाये गये फ्लॉवर्स की विजिटर्स द्वारा बड़ी संख्या में पूछताछ की जा रही है।
सिक्किम की गीतादेवी के अनसार एम्ब्रॉइडियरी से सुसज्जित ब्रोकेट, कॉटन तथा सिल्क धागे का उपयोग से बना पारम्परिक वाल हैंगिंग वे विशेष रूप यहां लाई है। सिक्किम में इन वॉल हैंगिंग को पूजा जाता है। यहां विजिटर्स के लिये उन्होंने हैण्डलूम से बनी जैकेट, बैंग, पर्स, टी शर्ट, शॉल आदि भी प्रदर्शित की हुई है।
मेघालय की आइक्मलोंग अपने साथ व्हाइट स्टोन के अगरबत्ती स्टैण्ड, केन वूड के फ्लॉवर्स, बैम्बू एवं थ्रेड से बने लैम्प स्टैण्ड तथा फोटो फ्रेम लाई हैं। इनके यहां दुप्पटे और हैण्डबैग भी है जिनकी रेंज 400 से 1000 रूपये है। यहां विजिटर्स के लिये नृत्य के समय पहने जाने वाली पारम्परिक माला मात्र 200 रूपये में उपलब्ध है जिसे उन्होंने रेड स्टोन, कपडे़ और धागे से बनाया है।
आसाम के अमलदास द्वारा बैम्बू से बने होल्डर, पैन स्टैण्ड, फ्रूट बास्केट, फ्लॉवर पॉट, टेबल लैम्प, वॉल हैंगिंग, सर्विस टेª, आदि जयपुरवासियों के लिये बेहद आकर्षक दरों पर उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इनकी कीमत मात्र 50 से 500 रूपये के मध्य है। इसी प्रकार मणिपुर की एन. उमा देवी द्वारा हैण्डलूम कॉटन की चादरें, स्टॉल, बैग आदि प्रोडक्टस् प्रदर्शन एवं बिक्री के लिये उपलब्ध है।

उल्लेखनीय है कि पांच दिवसीय ‘ऑक्टेव 2019’ फेस्टिवल जेकेके तथा नॉर्थ जोन कल्चरल सेंटर, पटियाला द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जा रहा है। इसके तहत नॉर्थ ईस्ट के क्राफ्ट बाजार के अतिरिक्त सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का आयोजन प्रतिदिन सायं 7 बजे से किया जाएगा।

No comments:

Post a comment

Pages