जेकेके में उत्तर पूर्व भारत की लगभग 20 कला स्वरूपों का होगा प्रदर्शन - Pinkcity News

Breaking News

Saturday, 23 March 2019

जेकेके में उत्तर पूर्व भारत की लगभग 20 कला स्वरूपों का होगा प्रदर्शन

  • 26 मार्च से 30 मार्च तक जेकेके में आयोजित होगा ‘ऑक्टेव 2019‘ फेस्टिवल

  • नॉर्थ-ईस्ट इंडिया के हस्तशिल्प उत्पादों की लगेगी प्रदर्शनी


जयपुर, 23 मार्च। उत्तर पूर्व भारत के विभिन्न राज्यों के कला स्वरूपों के रंग-बिरंगे संयोजन पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं प्रदर्शनी ‘ऑक्टेव 2019‘ जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के शिल्पग्राम में 26 मार्च से 30 मार्च तक आयोजित किया जाएगा। इस 5-दिवसीय फेस्टिवल का आयोजन जेकेके और उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, पटियाला द्वारा सांस्कृतिक मंत्रालय की ऑक्टेव योजना के तहत संयुक्त रूप से किया जा रहा है। इस कार्यक्रम का उद्घाटन 26 मार्च को सायं 7 बजे राजस्थान सरकार के पर्यटन, कला एवं संस्कृति विभाग की प्रमुख शासन सचिव, श्रेया गुहा द्वारा किया जाएगा।

नॉर्थ-ईस्ट इंडिया के आठ राज्यों के लगभग 20 कला स्वरूप प्रदर्शित किए जाएंगे। इनमें रिकम पाड़ा एवं बेह-दू (अरुणाचल प्रदेश); बिहू, बारदोई शिखला, भोरताल एवं क्षत्रिय (असम), पुंग चोलम / ढोल चोलम, लाई हरोबा एवं मणिपुर रास (मणिपुर); होको एवं का-शाद-मस्ती (मेघालय); होजागिरी एवं संगराई मोग (त्रिपुरा); चिरॉ एवं खुल्लम (मिजोरम); खुपाइलीली और रोइना (नागालैंड); तांग सेलो एवं सिंघी चाम (सिक्किम) कुछ मुख्य आकर्षण होंगे। ये सांस्कृतिक प्रस्तुतियां फेस्टिवल मंे पांचों दिन सायं 6.30 बजे से आयोजित की जाएगी।

हस्तशिल्प उत्पादों की प्रदर्शनी में विजिटर्स के लिये उत्तर पूर्व के लगभग 40 हस्तशिल्प उत्पाद (हैण्डीक्राफ्टस्) देखने एवं बिक्री के लिए उपलब्ध होंगे। इसमें कुल 350 कलाकार एवं 80 दस्तकार अपनी कला एवं हस्तशिल्प कला का प्रदर्शन करेंगे। फेस्टिवल के दौरान क्राफ्ट की दुकानें सायं 3.00 बजे से प्रारम्भ होंगी। उल्लेखनीय है कि जयपुर में नॉर्थ-ईस्ट क्षेत्र के कलाकारों का संभवतया यह प्रथम विशाल आयोजन होगा। इस कार्यक्रम में प्रवेश निःशुल्क होगा तथा प्रवेश गेट नंबर 3 से होगा।

No comments:

Post a comment

Pages